इंडियन न्यूज़ बयूरो में आपका स्वागत है. आप हमें कोई सुझाव या सलाह देना चाहते हैं तो आप हमें MO.No.09990728101,09871325967,0801002911,09716716290 पर सम्पर्क कर सकते हैं. आप हमें rakesh_gupta92@yahoo.com or rakeshgupta58@gmail.com पर मेल भी कर सकते हैं.

संघर्ष (NGO)और इंडियन न्यूज़ बयूरो परिवार की और से आप सभी को ईद और रक्षा बंधन की हार्दिक शुभ कामनाएं

सोम डिस्टलरीज प्राइवेट लिमिटेड कि यह जहरीली शराब कितनी जानलेवा हो सकती है

सोम डिस्टलरीज प्राइवेट एक जानी मानी शराब निर्माता कम्पनी है, इस कम्पनी के अक्टूबर माह के बेच नंबर 315 देशी मदिरा प्लेन का 180 मिली लीटर का यह More »

दिल्ली: बदला निजाम, अब सफाईकर्मी की बेटी बनेगी मंत्री!

मंगोलपुरी से विधायक चुनी गईं आम आदमी पार्टी की विधायक राखी बिड़ला की मां शीला राजकीय सरवोद्या कन्या विद्यालय में बतौर सफाईकर्मी कार्यरत हैं। More »

जिसने खींची थी भारत-पाकिस्तान के बीच बंटवारे की रेखा

साल 1947 का वो समय जब आनन फानन में ब्रिटेन से बुलाए गए सिरील रेडक्लिफ से कहा गया था कि भारत के दो टुकड़े करने है…. रेडक्लिफ न कभी भारत More »

गंभीर सवालों के अटपटे जवाब, वाह रे आरटीआइ

जागरण संवाददाता, हिसार। हरियाणा कृषि विश्वविद्यालय में अधिकारी और आकाशवाणी की एक कैजुअल प्रस्तोता के पिता चंद्रभान ढिंढोरिया ने साल 2008 More »

यही है भारतीय लोकतंत्र कि महानता……….

                     एक आम आदमी जो राजनीती का ककहरा भी नही जानता था एकाएक दिल्ली का मुख्यमंत्री बन जाता है, यह एक और जहां जनता कि ताकत को More »

हैरान हूं कि दक्षिण अफ्रीका ने जीत के लिए संघर्ष नहीं किया: विराट कोहली

हर कोई हैरान है कि जोहानिसबर्ग टेस्ट में इतिहास रचने की दहलीज पर खड़ी दक्षिण अफ्रीकी टीम ने आखिरी के ओवरों में जीत की कोशिश क्यों नहीं की. मैन More »

मुंबई में मोदी की महागर्जना रैली, लोकसभा चुनाव के लिए दिया नारा- वोट फॉर इंडिया

बीजेपी के पीएम पद के उम्‍मीदवार नरेंद्र मोदी ने रविवार को मुंबई में ‘महागर्जना रैली’ की. अपनी हर रैली की तरह जहां उन्‍होंने कांग्रेस के वंशवाद और More »

कैप्टन टीवी में एक और ‘तेजपाल’ का ‘तहलका’

तरुण तेजपाल के बाद मीडिया से जुड़ी एक और बड़ी हस्ती पर यौन उत्पीड़न का आरोप लगा है। कैप्टन टीवी के संपादक को यौन शोषण के आरोप में गिरफ्तार More »

‘सोनिया राहुल को हरवाने खुद जाऊंगा’

बाबा रामदेव ने एक बार फिर राहुल और सोनिया गांधी पर निशाना साधा है। More »

मुज़फ़्फ़रनगर: घर-बार उजड़ने के बाद अब बच्चों की मौतें

हिंसा की वजह कुछ भी हो लेकिन हिंसा का दर्द झेलने वाले इलाक़ों का इतिहास अगर औरतों और बच्चों की नज़र से लिखा जाए तो वह कहानी होगी बेबस More »

अरविंद केजरीवाल बनेंगे दिल्ली के मुख्यमंत्री

नई दिल्ली. सरकार बनाने को लेकर कराए गए जनमत संग्रह में मिले पॉजिटिव रुझानों के बाद दिल्ली में आम आदमी पार्टी का सरकार बनाना तय हो गया है। More »

दिल्ली में ‘आप’ बनाएगी सरकार, सिर्फ ऐलान होना बाकी

नई दिल्ली। दिल्ली में सरकार बनाने को लेकर आम आदमी पार्टी (आप) की रायशुमारी की कवायद पूरी हो गई है। पार्टी की ओर से बताया गया है कि रायशुमारी More »

अब किसानों को रुला रहा है प्याज़

पाँच राज्यों में हुए विधानसभा चुनावों से पहले प्याज़ ने आम लोगों को ख़ून के आंसू रुलाया था. यहां तक कि इसके फुटकर दाम 100 रुपए प्रति किलो तक चढ़ More »

बिहार में नीतीश को न बीजेपी मिली न कांग्रेस?

बिहार को हमेशा से भारतीय राजनीति का प्रयोगशाला कहा जाता है। 2014 के आम चुनाओं में एक बार फिर बिहार अहम रोल अदा करने वाला है। पिछले कुछ More »

सरकार बनाने के लिए किसी समय सीमा को नहीं मानेगी ‘आप’

बेंगलूर। आम आदमी पार्टी (आप) के नेता योगेंद्र यादव ने कहा है कि उनकी पार्टी दिल्ली में सरकार गठन के लिए केंद्र द्वारा दी गई किसी समयसीमा को नहीं More »

पीसीआर वैन में 5 पुलिसवालों ने किया छात्रा से गैंग रेप

चंडीगढ़. एक नाबालिग छात्रा के साथ गैंग रेप के आरोप में चंडीगढ़ पुलिस के दो मुलाजिमों को गिरफ्तार किया गया है। मामले में कुल 5 पुलिसवालों के More »

दिल्ली में दोबारा चुनाव हुआ तो केजरीवाल को कम वोट: सर्वे

दिल्ली में आम आदमी पार्टी को कांग्रेस के समर्थन से सरकार बनानी चाहिए या नहीं, इस पर पिछले एक हफ्ते से पेच फंसा हुआ है। कांग्रेस के बिना शर्त More »

हिटलर का नामो-निशाँ मिटाने की कवायद

दक्षिणी जर्मनी के एक क़स्बे डीएट्रामज़ेल ने एडोल्फ हिटलर को दी गई मानद नागरिकता वापस ले ली है. इससे पहले भी जर्मनी के कई शहर ऐसा कर चुके हैं. More »

दुष्कर्म के आरोप पर एनजीओ निदेशक ने जान दी

जागरण संवाददाता, नई दिल्ली : दुष्कर्म का आरोप लगने पर इंस्टीट्यूट फॉर सोशल डेमोक्रेसी एनजीओ के निदेशक खुर्शीद अनवर ने बुधवार सुबह तीसरी More »

अंतरिक्ष से धरती के शानदार नज़ारे

क्रोएशिया के तट के नज़दीक दिल के आकार के इस टापू को आइलैंड ऑफ़ लव कहा गया है. More »

 

यौन प्रताड़ित बच्चों को कैसे संभालें

140721162932_rape_protest_624x351_getty
image_pdfimage_print

हाल में बेंगलुरू में एक छह वर्ष की बच्ची के साथ बलात्कार की घटना ने सबको झकझोर कर रख दिया. लेकिन ये इस तरह का पहला मामला नहीं है.

पीएम का अजेंडा: 24 घंटे में देश के किसी भी कोने में पहुंचें लोग

Modi
image_pdfimage_print

नई दिल्ली
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने लोगों के ‘अच्छे दिन’ लाने के अपने अभियान के तहत सभी मंत्रालयों को 17 सूत्री अजेंडा भेजा है। इस अजेंडे में रोड, रेल नेटवर्क से लेकर पानी के जरिए कनेक्टिविटी को इस तरह से दुरुस्त करने की योजना है कि लोग देश के किसी भी कोने में 24 घंटे के भीतर पहुंच जाएं।

चुपके से हुआ ‘तत्काल टिकट’ महंगा

Katra Tunel WA0018
image_pdfimage_print

इंडियन रेलवे ने चुपके से ‘तत्काल टिकट’ का एक ऐसा नियम बदल दिया, जो अब पैसेंजरों की जेब पर भारी पड़ रहा है। इससे ज्यादा नुकसान कम दूरी की यात्रा करने वाले पैसेंजरों को हो रहा है। पहले तत्काल के लिए न्यूनतम किराया 300 किमी तक चार्ज किया जाता था, लेकिन अब उसे 500 किमी कर दिया गया है।

क्यों है ख़ास लॉर्ड्स में मिली जीत ?

140718183612_england_india_lords_624x351_pa
image_pdfimage_print

भारत ने इंग्लैंड को लॉर्ड्स में हुए दूसरे टेस्ट में 95 रनों से हरा दिया है. 

बग़ावत ‘बड़े बदलाव’ की चेतावनी!

140524114402_rahul_gandhi_and_sonia_gandhi_624x351_reuters
image_pdfimage_print

कांग्रेस शासित कई राज्यों में नेतृत्व के ख़िलाफ़ उठ रहे बग़ावती सुरों ने पार्टी हाईकमान की मुश्किलें बढ़ा दी हैं.

केंद्र सरकार ने काटजू के दावे को सही ठहराया

ravishankar_prasad
image_pdfimage_print

नई दिल्ली
मद्रास हाई कोर्ट के एक ‘भ्रष्ट जज’ को यूपीए सरकार द्वारा राजनीतिक दबाव देकर बचाए जाने और प्रमोशन दिलाने के जस्टिस मार्कंडेय काटजू के बयान पर बवाल थमने के नाम नहीं ले रहा है। अब केंद्र सरकार ने भी उनके इस दावे की पुष्टि कर दी है। मंगलवार को इस मामले पर संसद में चर्चा के दौरान कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद ने कहा कि जून 2005 में तत्कालीन प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह के ऑफिस ने सुप्रीम कोर्ट कॉलेजियम से उस जज के नाम पर विचार करने के लिए कहा था। कॉलेजियम द्वारा यह अनुरोध ठुकराए जाने के बाद कानून मंत्रालय ने इस मामले में एक और नोट भेजा था।

गणतंत्र दिवस पर अन्ना फिर उतरेंगे जनता के बीच

anna23
image_pdfimage_print

नई दिल्ली .अन्ना हजारे अपनी खराब सेहत की वजह से भले ही चुनाव सभाओं में नहीं जा पा रहे हों, लेकिन गणतंत्र दिवस के मौके पर वे राजधानी दिल्ली के

उप्र: छत्तीसगढ़ की महिलाओं से ‘सामूहिक बलात्कार’

chhattisgarh_gangrape_624x351_afp
image_pdfimage_print

छत्तीसगढ़ के जांजगीर-चांपा ज़िले में एक नाबालिग समेत पांच महिलाओं के साथ सामूहिक बलात्कार की रिपोर्ट दर्ज कराई गई है.

एक और चुनावी सर्वे में बीजेपी बम-बम

Modi_rajnath
image_pdfimage_print

लोकसभा चुनाव से पहले किए जा रहे हैं चुनावी सर्वेक्षणों में बीजेपी के लिए लगातार अच्छी खबरें आ रही हैं। न्यूज चैनल सीएनएन-आईबीएन और

‘आप’ की भड़ास, ‘बिका हुआ है मीडिया’

somnath-bharti
image_pdfimage_print

पिछले कुछ दिनों में अपने फैसले और कानून मंत्री की ‘करतूत’ की वजह से सवालों में आए आम आदमी पार्टी (आप) की सरकार ने मीडिया पर जोरदार हमला

‘धरना देकर कोई गलती नहीं की, जनता को मालिक बनाने आए हैं’

kejri1 25_01_2014-25
image_pdfimage_print

नई दिल्ली। दिल्ली छत्रसाल स्टेडियम में शनिवार को गणतंत्र दिवस समारोह को संबोधित करते हुए दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने अपने भाषण में

केजरीवाल जी जनता आप से सवाल पूछ रही है, जबाव तो आप को देना ही होगा

arvind-kejriwal
image_pdfimage_print

दोस्तों नमस्कार,
पता नही आज क्यों पहली बार लग रहा है कि केजरीवाल जी या तो कांग्रेस के हाथों छले जा रहे हैं, या फिर भारतीय आम आदमी को खुद छलने का प्रयास कर रहे

दिल्ली: बदला निजाम, अब सफाईकर्मी की बेटी बनेगी मंत्री!

rakhibirla
image_pdfimage_print

मंगोलपुरी से विधायक चुनी गईं आम आदमी पार्टी की विधायक राखी बिड़ला की मां शीला राजकीय सरवोद्या कन्या विद्यालय में बतौर सफाईकर्मी कार्यरत हैं।

जिसने खींची थी भारत-पाकिस्तान के बीच बंटवारे की रेखा

partition_624x351_getty
image_pdfimage_print

साल 1947 का वो समय जब आनन फानन में ब्रिटेन से बुलाए गए सिरील रेडक्लिफ से कहा गया था कि भारत के दो टुकड़े करने है…. रेडक्लिफ न कभी भारत

गंभीर सवालों के अटपटे जवाब, वाह रे आरटीआइ

rti26
image_pdfimage_print

जागरण संवाददाता, हिसार। हरियाणा कृषि विश्वविद्यालय में अधिकारी और आकाशवाणी की एक कैजुअल प्रस्तोता के पिता चंद्रभान ढिंढोरिया ने साल 2008

यही है भारतीय लोकतंत्र कि महानता……….

KEJRIWAL m
image_pdfimage_print

                     एक आम आदमी जो राजनीती का ककहरा भी नही जानता था एकाएक दिल्ली का मुख्यमंत्री बन जाता है, यह एक और जहां जनता कि ताकत को

हैरान हूं कि दक्षिण अफ्रीका ने जीत के लिए संघर्ष नहीं किया: विराट कोहली

South Africa India Cricket
image_pdfimage_print

हर कोई हैरान है कि जोहानिसबर्ग टेस्ट में इतिहास रचने की दहलीज पर खड़ी दक्षिण अफ्रीकी टीम ने आखिरी के ओवरों में जीत की कोशिश क्यों नहीं की. मैन

मुंबई में मोदी की महागर्जना रैली, लोकसभा चुनाव के लिए दिया नारा- वोट फॉर इंडिया

modi
image_pdfimage_print

बीजेपी के पीएम पद के उम्‍मीदवार नरेंद्र मोदी ने रविवार को मुंबई में ‘महागर्जना रैली’ की. अपनी हर रैली की तरह जहां उन्‍होंने कांग्रेस के वंशवाद और

कैप्टन टीवी में एक और ‘तेजपाल’ का ‘तहलका’

PAINT 1 new
image_pdfimage_print

तरुण तेजपाल के बाद मीडिया से जुड़ी एक और बड़ी हस्ती पर यौन उत्पीड़न का आरोप लगा है। कैप्टन टीवी के संपादक को यौन शोषण के आरोप में गिरफ्तार

‘सोनिया राहुल को हरवाने खुद जाऊंगा’

baba-ramdev-523c94356d588_exl
image_pdfimage_print

बाबा रामदेव ने एक बार फिर राहुल और सोनिया गांधी पर निशाना साधा है।

मुज़फ़्फ़रनगर: घर-बार उजड़ने के बाद अब बच्चों की मौतें

kids_swati_bakshi_624x351_bbc
image_pdfimage_print

हिंसा की वजह कुछ भी हो लेकिन हिंसा का दर्द झेलने वाले इलाक़ों का इतिहास अगर औरतों और बच्चों की नज़र से लिखा जाए तो वह कहानी होगी बेबस

अरविंद केजरीवाल बनेंगे दिल्ली के मुख्यमंत्री

KEJRIWAL m
image_pdfimage_print

नई दिल्ली. सरकार बनाने को लेकर कराए गए जनमत संग्रह में मिले पॉजिटिव रुझानों के बाद दिल्ली में आम आदमी पार्टी का सरकार बनाना तय हो गया है।

दिल्ली में ‘आप’ बनाएगी सरकार, सिर्फ ऐलान होना बाकी

arvind-kejriwal
image_pdfimage_print

नई दिल्ली। दिल्ली में सरकार बनाने को लेकर आम आदमी पार्टी (आप) की रायशुमारी की कवायद पूरी हो गई है। पार्टी की ओर से बताया गया है कि रायशुमारी

सोम डिस्टलरीज प्राइवेट लिमिटेड कि यह जहरीली शराब कितनी जानलेवा हो सकती है

PAINT 1 new
image_pdfimage_print

सोम डिस्टलरीज प्राइवेट एक जानी मानी शराब निर्माता कम्पनी है, इस कम्पनी के अक्टूबर माह के बेच नंबर 315 देशी मदिरा प्लेन का 180 मिली लीटर का यह

अब किसानों को रुला रहा है प्याज़

pyaj
image_pdfimage_print

पाँच राज्यों में हुए विधानसभा चुनावों से पहले प्याज़ ने आम लोगों को ख़ून के आंसू रुलाया था. यहां तक कि इसके फुटकर दाम 100 रुपए प्रति किलो तक चढ़

बिहार में नीतीश को न बीजेपी मिली न कांग्रेस?

nitish-kumar
image_pdfimage_print

बिहार को हमेशा से भारतीय राजनीति का प्रयोगशाला कहा जाता है। 2014 के आम चुनाओं में एक बार फिर बिहार अहम रोल अदा करने वाला है। पिछले कुछ

सरकार बनाने के लिए किसी समय सीमा को नहीं मानेगी ‘आप’

yogendra20
image_pdfimage_print

बेंगलूर। आम आदमी पार्टी (आप) के नेता योगेंद्र यादव ने कहा है कि उनकी पार्टी दिल्ली में सरकार गठन के लिए केंद्र द्वारा दी गई किसी समयसीमा को नहीं

पीसीआर वैन में 5 पुलिसवालों ने किया छात्रा से गैंग रेप

rape 1
image_pdfimage_print

चंडीगढ़. एक नाबालिग छात्रा के साथ गैंग रेप के आरोप में चंडीगढ़ पुलिस के दो मुलाजिमों को गिरफ्तार किया गया है। मामले में कुल 5 पुलिसवालों के

दिल्ली में दोबारा चुनाव हुआ तो केजरीवाल को कम वोट: सर्वे

Arvind1
image_pdfimage_print

दिल्ली में आम आदमी पार्टी को कांग्रेस के समर्थन से सरकार बनानी चाहिए या नहीं, इस पर पिछले एक हफ्ते से पेच फंसा हुआ है। कांग्रेस के बिना शर्त

हिटलर का नामो-निशाँ मिटाने की कवायद

hitler 1
image_pdfimage_print

दक्षिणी जर्मनी के एक क़स्बे डीएट्रामज़ेल ने एडोल्फ हिटलर को दी गई मानद नागरिकता वापस ले ली है. इससे पहले भी जर्मनी के कई शहर ऐसा कर चुके हैं.

दुष्कर्म के आरोप पर एनजीओ निदेशक ने जान दी

dush
image_pdfimage_print

जागरण संवाददाता, नई दिल्ली : दुष्कर्म का आरोप लगने पर इंस्टीट्यूट फॉर सोशल डेमोक्रेसी एनजीओ के निदेशक खुर्शीद अनवर ने बुधवार सुबह तीसरी

अंतरिक्ष से धरती के शानदार नज़ारे

mount_vesuvius_space_pic_624x351_digitalglobe_nocredit
image_pdfimage_print
क्रोएशिया के तट के नज़दीक दिल के आकार के इस टापू को आइलैंड ऑफ़ लव कहा गया है.

छत्तीसगढ़ में कड़ी सुरक्षा के बीच अंतिम दौर की वोटिंग जारी

EVM2
image_pdfimage_print

रायपुर। छत्तीसगढ़ की 72 विधानसभा सीटों पर दूसरे और अंतिम चरण का मतदान मंगलवार सुबह कड़ी सुरक्षा के बीच शुरू हुआ। अंतिम चरण में किस्मत आजमा रहे कुल आठ

कश्मीर: महिलाएं कर रहीं चरमपंथियों से मुक़ाबला

kasmir_women_624x351_bbc_nocredit
image_pdfimage_print

पाकिस्तान प्रशासित कश्मीर में आम लोग इस्लामी चरमपंथियों का ख़ुद मुक़ाबला कर रहे हैं और इनका नेतृत्व कर रही हैं महिलाएं.

वीआईपी नं. 17 लाख में खरीदने वाला ड्रग रैकेट में

PAINT 1 new
image_pdfimage_print

मोहाली के जगजीत सिंह चाहल का नाम पिछले साल जून में सुर्खियों में था। उसने यहां 85 लाख रुपये के टोयोटा लैंडक्रूजर के लिए रजिस्ट्रेशन नंबर CH-01-AN-001 नीलामी में

ये विधानसभा चुनाव क्यों सेमीफ़ाइनल नहीं हैं?

rahul_gandhi_624x351_ap
image_pdfimage_print

पांच राज्यों में हो रहे विधानसभा चुनावों को हर तरफ अगले साल होने वाले आम चुनावों का सेमीफ़ाइनल कहा जा रहा है.

‘नेता बेवकूफ़ हैं….मज़ाक में कहा था’

cnr_rao_304x171_pti_nocredit
image_pdfimage_print

वैज्ञानिक डॉक्टर सीएनआर राव का कहना है कि नेताओं से उन्हें कोई शिकायत नहीं और उन्होंने नेताओं को मज़ाक में बेवकूफ़ कहा था.

मुश्किल लक्ष्य पर ब्रह्मोस का अचूक निशाना

PAINT 1 new
image_pdfimage_print

सेना ने सोमवार को 290 किलोमीटर की दूरी तक मार करने वाली ब्रह्मोस सुपरसोनिक क्रूज मिसाइल के एक आधुनिक संस्करण का सफल परीक्षण किया। इने राजस्थान के

केजरीवाल ने चुनाव में उतरने में जल्दबाज़ी की?

aam_aadmi_party_624x351_reuters_nocredit
image_pdfimage_print

पहली बार चुनावी अखाड़े में कूदी आम आदमी पार्टी (आप) के क़दम क्या अभी से डगमगाने लगे हैं?

मोदी को रोकने के लिए कांग्रेस का साथ

azam1
image_pdfimage_print

अलीगढ़। नगर विकास मंत्री आजम खां सोमवार की रात यहां एक निजी कार्यक्रम में शामिल हुए। इस दौरान पत्रकारों से बातचीत में उन्होंने कहा कि नरेंद्र मोदी को रोकने के

आम आदमी पार्टी: अन्ना आंदोलन के बाद सत्ता की जंग

arvind_kejriwal_624x351_reuters
image_pdfimage_print

‘आम आदमी पार्टी’ भारत में राजनीतिक पार्टी निर्माण के प्रचलित और स्वीकृत सिद्धांतों का अतिक्रमण करते हुए अस्तित्व में आई है.

सचिन की आख़िरी सिरीज़ जीत के साथ ख़त्म

sachin_tendulkar_final_innings_512x288_pti
image_pdfimage_print

मुंबई के वानखेड़े स्टेडियम में खेले गए भारत-वेस्ट इंडीज़ सिरीज़ के दूसरे टेस्ट में भारत ने वेस्ट इंडीज़ को एक पारी और 126 रन से हराकर सिरीज़ पर 2-0 से क़ब्ज़ा कर लिया है.

विवादित बयान पर सीबीआइ निदेशक ने महिला आयोग को दी सफाई

shina1
image_pdfimage_print

नई दिल्ली। दुष्कर्म वाले अपने विवादित बयान पर सार्वजनिक रूप से खेद जता चुके सीबीआइ निदेशक रंजीत सिन्हा ने बृहस्पतिवार को राष्ट्रीय महिला आयोग को जवाब

महंगाई से आजिज लोगों ने सब्जी बाजार लूटे

vegetable1
image_pdfimage_print

मालदा । महंगाई से आजिज आम जनता अब लूट पर उतारू हो गई है। सब्जियों के आसमान छूते दामों से आक्रोशित ग्राहकों ने मंगलवार को पश्चिम बंगाल के मालदा जिले में

बिहार में 70 रुपये किलो बिका नमक

namak
image_pdfimage_print

पटना,। चारों ओर महंगाई के असर के बीच बृहस्पतिवार को बिहार में एक अफवाह के चलते नमक करीब 70 रुपये किलो तक बिका। बाद में पुलिस ने चार युवकों को गिरफ्तार

बापू के आश्रम में कंकाल दफनाने के लिए दिया था मोटी रकम का लालच

asaram1
image_pdfimage_print

जम्मू। कथावाचक आसाराम के जम्मू स्थित आश्रम में बच्चों के दफन होने का दावा कर सनसनी फैलाने वाले उनके पूर्व सहयोगी विनोद गुप्ता उर्फ भोलानंद ने बृहस्पतिवार को

नौसेना को बिना रक्षा कवच मिलेगा विक्रमादित्य

ship1
image_pdfimage_print

नई दिल्ली। लंबे इंतजार के बाद रूसी विमानवाहक पोत गोर्शकोव आखिरकार शनिवार को भारत को हासिल हो जाएगा। इस युद्धक पोत को लाने के लिए रक्षा मंत्री एके एंटनी

मंगला एक्सप्रेस पटरी से उतरी, 5 की मौत, 50 घायल

train
image_pdfimage_print

नासिक। दिल्ली के निजामुद्दीन से एर्नाकुलम जाने वाली मंगला एक्सप्रेस के शुक्रवार की सुबह पटरी से उतर जाने से पांच लोगों की मौत हो गई जबकि 50 घायल हो गए। सूत्रों

वानखेड़े में सचिन :- उमीदें, आशाएं, दुआएं, आंसू और शुभ कामनाएं

sachin14
image_pdfimage_print

मुंबई। आज सचिन रमेश तेंदुलकर अपना 200 वां और अंतिम टेस्ट खेलने मैदान पर उतरे तो प्रशंसकों में अपार जोश था पूरा स्टेडियम सचिन सचिन के नारों से गुंजायमान

‘आप’ को आवाज से हुई फंडिंग: सुब्रमण्यम स्वामी

sonia-modi
image_pdfimage_print

बीजेपी ने आम आदमी पार्टी (आप) और उसके संस्थापक अरविंद केजरीवाल पर सनसनीखेज आरोप लगाए हैं। पार्टी नेता सुब्रमण्यम स्वामी ने आरोप लगया है कि

‘सीबीआई चुनाव आयोग और कैग की तरह हो

manmohan_singh_624x351_ap
image_pdfimage_print

गुवाहाटी हाईकोर्ट के सीबीआई के गठन पर सवाल उठाते हुए उसे अवैध करार दिए जाने के संदर्भ में भारत के प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने कहा है कि सीबीआई के इतिहास और

राजस्थान चुनाव: राजस्व मंत्री लापता, गहलोत, वसुंधरा ने नामांकन भरा

rajegahlot121
image_pdfimage_print

जयपुर। जहां एक तरफ राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने विधानसभा चुनाव के लिए सोमवार को नामांकन भरा, वहीं दूसरी तरफ राजस्व मंत्री हेमाराम चौधरी का

हर बड़ा सितारा उनके साथ काम करने को बेताब

lata_mangeshkar_asha_bhosle_624x351_latacalander
image_pdfimage_print
गुरुवार, 4 सितंबर, 2014
'चेन्नई एक्सप्रेस'

यो-यो हनी सिंह ने अक्षय कुमार के लिए हिट गाने दिए. शाहरुख़ ख़ान के साथ उनकी जुगलबंदी सुपरहिट रही. हर बड़ा सितारा उनके साथ काम करने को बेताब है.

उनके वीडियो देसी कलाकार में काम करने के लिए सोनाक्षी सिन्हा जैसी अभिनेत्री फट से तैयार हो जाती हैं, लेकिन हनी सिंह आशा भोंसले का दिल नहीं जीत पाए हैं.

हाल ही में टीवी पर यो-यो हनी सिंह का रियलिटी शो ‘रॉ स्टार’ टीवी पर शुरू हुआ जिसमें युवा गायकों को चुना जाता है.

हनी सिंह के शो से नाराज़

आशा भोसले

 मुंबई में एक गाने के लॉन्च पर पहुंची आशा भोंसले ने कहा, “रॉ स्टार का क्या मतलब होता है. रॉ मतलब कच्चा. जबकि पक्के लोगों को चुनना चाहिए. रॉ को जब तक पकाया ना जाए वो मीठा नहीं लगेगा.”

फिर उन्होंने अपने बारे में कहा, “लुंगी-लुंगी सुनने वाले लोग मेरे गाने भी बड़े पसंद करते हैं. हर आयु वर्ग के लोग मेरे गाने पसंद करते हैं. मुझे हैरानी होती है जब बेहद युवा और बच्चे भी मेरे ऑटोग्राफ़ मांगते हैं.”

कुछ दिनों पहले भी आशा भोंसले ने मौजूदा दौर के कई बॉलीवुड गानों को आड़े हाथों लिया था और हनी सिंह के भी कई गानों पर आपत्ति जताई थी.

‘तकनीक का इस्तेमाल ठीक नहीं’

लता मंगेशकर, आशा भोसले

उन्होंने गायकी में बहुत ज़्यादा तकनीक के इस्तेमाल पर भी आपत्ति जताई.

उन्होंने कहा, “कंप्यूटर का जितना भी इस्तेमाल कर लो. गाना दिल से नहीं गाओगे तो वो दिल को नहीं छुएगा.”

बेहद असुरक्षा का माहौल था, अब बीते 100 दिनों में वो कुछ कम हुआ

bbc_amu_hangout_624x351_bbc
image_pdfimage_print
गुरुवार, 4 सितंबर, 2014
फ़ाकेहा ज़िंजानी

“जिस दिन चुनाव नतीजे आ रहे थे, लोगों में ख़ौफ़ था. डर था कि पूरा भारत एक युद्धक्षेत्र बन जाएगा. दुआएँ माँगी जा रही थीं. वो बेहद असुरक्षा का माहौल था, अब बीते 100 दिनों में वो कुछ कम हुआ है.”

अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय की फ़ाकेहा ज़िंजानी ने बीबीसी कैंपस हैंगआउट में ये राय रखी. चर्चा का विषय था- ‘क्या मोदी मुसलमानों का दिल जीतने में सफल हुए हैं?’. मोदी सरकार के 100 दिन पूरे होने के मौक़े पर ये हैंगआउट रखा गया था.

फ़ाकेहा का कहना था, “एक्स्ट्रीम की जो राय थी, वो अब नहीं है. हम मुसलमान भी सुरक्षित महसूस करते हैं. जैसा पहले था, वैसा अब भी चल रहा है.”

मगर हैंगआउट में सबकी ये राय नहीं थी. कई छात्र-छात्राओं ने मोदी सरकार पर धार्मिक ध्रुवीकरण को बढ़ावा देने का आरोप लगाया.

एक नज़र हैंगआउट में उठे प्रमुख मुद्दों पर:

योगी आदित्यनाथ के ‘भड़काऊ बयान’

सारा आलम

अच्छे दिनों का हमें एक ग्लैमराइज़्ड ख़्वाब दिखाया गया था. शायद वो अपने अच्छे दिनों की बात कर रहे थे, हम अपने समझ बैठे. योगी आदित्यनाथ जैसे लोग कुछ भी कहकर निकल जाते हैं. आप एक पिछड़े हुए वर्ग को डरा रहे हैं. 15 फ़ीसदी जनता को दरकिनार कर विकास कैसे होगा? (अनम रईस ख़ान)

मेरा मोदी जी से निवेदन है कि वह असंवैधानिक बातें कहने वालों के ख़िलाफ़ प्रतिक्रिया दें और फिर कार्रवाई भी करें. अच्छे दिन किसी वर्ग विशेष के न हों, वो सबके हों. सबका साथ हो, सबका विकास हो. (डॉक्टर सारा आलम)

बाँटने की राजनीति न की जाए. अगर सबको साथ लेकर चलने की बात है तो फिर हिंदू शब्द की चर्चा ही कहाँ से आई. – (तंज़ीम अब्बास)

मोदी जी सबके नेता है. अल्पसंख्यक भी चाहते हैं कि उनका भी विकास हो. मगर सत्ताधारी दल में उसका (अल्पसंख्यकों का) एक भी सांसद न चुना जाना क्या चिंता की बात नहीं है? रोज़-ब-रोज़ आने वाले अतिवादी बयान क्या हमें चिंतित नहीं करेंगे? लोगों में सांप्रदायिक भावना घर कर गई है. (सफ़िया मुस्तफ़ा)

‘शिक्षा का भगवाकरण’

फ़व्वाज़ शाहीन

तालीम का भगवाकरण किया जा रहा है. पाठ्यक्रम वाली संस्थाओं में आरएसएस के लोगों को भरने की कोशिश हो रही है. ये सबसे ख़तरनाक बात है. (फ़व्वाज़ शाहीन)

किताबों में जो बदलाव हो रहे हैं, वो चिंता की बात है. आप पूरे बहुमत से आए हैं, हमें भी ख़ुशी है कि आपको पूरा बहुमत मिला है तो आप काम भी सबके लिए करें, सिर्फ़ अपनी दिली ख़ुशी के लिए नहीं. (मरियम सिद्दीक़ी)

फ़लस्तीन पर ‘चुप्पी’

ग़ज़ा में जिस तरह की बर्बर हत्याएँ हुईं उस पर सरकार ने चुप्पी साधे रखी. कहा गया कि दोस्ताना देश (इसराइल) के ख़िलाफ़ कोई ‘डिस्कर्टियस’ भाषा का इस्तेमाल नहीं करेंगे. अभी तो 100 दिनों की मायूसी है अगले 1625 दिनों में देखते हैं कि और क्या होता है. (अली फ़रज़ान)

हमारा देश मशहूर रा है स्वतंत्रता संग्राम सेनानियों के लिए. तो आज की हमारी सरकार इतनी बुज़दिल कैसे हो गई कि ग़ज़ा और सीरिया में बच्चों और औरतों की हत्या पर चुप रह गई. आख़िर इसराइल से हमारा इतना दोस्ताना कैसे हो गया? (मरियम सिद्दीक़ी)

मोदी सरकार की तारीफ़

नरेंद्र मोदी

सरकार नौकरशाही में चुस्ती ला रही है जो क़ाबिले तारीफ़ है. (सदफ़ इक़बाल)

नेशन फ़र्स्ट से युवा जुड़ रहे हैं, इससे देश आगे बढ़ेगा. सरकार अब कॉर्पोरेट की तरह चल रही है जिससे काम करना और कराना आसान हो जाएगा. (ज़ुल्फ़िक़ार सेठ)

बहुत वक़्त लगता है कुछ काम करने के लिए. मोदी जी को कुछ वक़्त दीजिए काम कर दिखाने के लिए. जिस तरह उन्होंने आईआईटी, आईआईएम या एम्स की संख्या बढ़ाने की बात कही है और शिक्षा क्षेत्र को तवज्जो दी जा रही है वो अच्छी बात है. शिक्षा में लड़कियों की शिक्षा को प्राथमिकता दी जा रही है.(नाज़ली शाह)

अन्य मुद्दे

लोग संतुलित राय नहीं रख रहे हैं. मोदी भक्त उनके हर क़दम को सही ठहराने पर तुले रहते हैं तो कुछ विरोधी ऐसे हैं जिन्हें उनकी हर चीज़ ग़लत नज़र आती है.(डॉक्टर सारा आलम)

100 करोड़ रुपए बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ योजना के लिए और 200 करोड़ रुपए स्टेच्यू ऑफ़ लिबर्टी के लिए. हम हिंदुस्तानी जीते-जागते स्टेच्यू ऑफ़ लिबर्टी बनना चाहते हैं. (सदफ़ इक़बाल)

अनम रईस ख़ान

विविधता हमारी ताक़त है. मगर यहाँ तो समान आचार संहिता की वकालत की जा रही है. ये सरकार हमारी भी है, मगर एक संदेश ये आ रहा है कि हमारी बात सुनने वाला कोई नहीं है. (ज़ुल्फ़िक़ार सेठ)

शेरो-शायरी

मैं अमन पसंद हूँ, मेरे शहर में दंगा रहने दो.

लाल-हरे में मत बाँटो, मेरे छत पे तिरंगा रहने दो. (डॉक्टर सारा आलम)

हम सब आगे बढ़ना चाहते हैं, हम लड़ना नहीं चाहते.

हम कुछ करना चाहते हैं, हम मरना नहीं चाहते. (सदफ़ इक़बाल)

ऐ अब्रे करम बरसा कर कभी इधर भी आकर.

इस शहर में अब भी कोई प्यासा बाक़ी है. (फ़ातिमा ख़ान)

सच और हक़ की बेख़ौफ़ हिमायत की है,

गर ये बग़ावत है तो हमने बग़ावत की है. (अनम रईस ख़ान)

धर्म परिवर्तन करने से मना करने पर युवक ने अपने साथियों से मिलकर नाबालिग छात्रा के साथ किया दुष्कर्म

rape 1
image_pdfimage_print
ग्रेटर नोएडा.04.09.2014, जेवर थाना क्षेत्र में एक लव जेहाद का मामला सामने आया है। जहां धर्म परिवर्तन करने से मना  करने पर एक युवक ने अपने साथियों से मिलकर नाबालिग छात्रा के साथ दुष्कर्म किया। किशोरी किसी तरह आरोपियों के चंगुल से छूट कर अपने घर पहुंची। पीड़िता ने अपने साथ हुए घटना की जानकारी माता पिता को दी।
घटना पर ग्रामीणों में आक्रोश है। उन्होंने आरोपियों को कड़ी सजा देने की मांग की है और आंदोलन  करने की बात की है। पीड़िता की शिकायत पर पुलिस ने मुकदमा दर्ज कर आरोपी युवक को हिरासत में ले लिया है। उससे पूछताछ जारी है।  किशोरी को मेडिकल परिक्षण के लिए भेज दिया गया है।  पीड़िता जेवर थाना क्षेत्र के गोपालगढ़ गांव की है।
क्षेत्र में ही स्थित वो इंटर कॉलेज 10वीं में पढ़ती है। कालेज आने-जाने के दौरान उसकी दोस्ती पड़ोस के गांव मेहंदीपुर के इकराम से हो गई। इकराम ने उसे अपना नाम राजू बताकर अपने प्रेम जाल  में फंसा लिया। इधर, कुछ दिनों से राजू बना इकराम किशोरी पर इस्लाम कबूलने का दबाव बना रहा था।
इस पर किशोरी ने नाराजगी जताई जो इकराम को नागवार गुजरी। बीते रविवार को इकराम व उसके तीन साथियों ने किशोरी का उस समय अपहरण कर लिया जब वो खेत पर जा रही थी।  फिर उसे सुनसान जगह ले जाकर चारों ने उसके साथ दुष्कर्म किया। किसी तरह किशोरी उनको चकमा देकर भाग निकली और घर पहुंचकर  पूरी कहानी बयान की। घटना  के बाद क्षेत्र के लोगों में  गुस्सा है।

50 बरातियों को ले जा रही बस गिर गई, 35 बरातियों के मारे जाने की आशंका

jammu kashmir
image_pdfimage_print
जम्मू-कश्मीर में बाढ़ का कहर: उफनती झेलम में गिरी बस, 35 के मारे जाने की आशंका
म्मू-कश्मीर में सेना और बचाव दल के जवान लोगों को सुरक्षित स्थान पर पहुंचा रहे हैं।
जम्मू/श्रीनगर. जम्मू-कश्मीर में भारी बारिश के चलते नदियों में पानी का स्तर खतरनाक ढंग से बढ़ रहा है। राजौरी जिले में झेलम नदी के उफनते पानी में 50 बरातियों को ले जा रही बस गिर गई।  35 बरातियों के मारे जाने की आशंका है। सूबे की राजधानी श्रीनगर में ही झेलम नदी खतरे के निशान से चार फुट ऊपर बह रही है। श्रीनगर के पास एक तटबंध के भी टूट जाने की अपुष्ट खबर है। इस वजह से श्रीनगर में कई इलाकों में पानी भर गया है।

भारी बारिश के कारण हुए भूस्खलन और बाढ़ में अब तक 13 जानें जा चुकी हैं। मरने वालों में सीमा सुरक्षा बल का एक अधिकारी और चार बच्चे भी शामिल हैं।
बाढ़ से बने हालात बेकाबू होते देख जम्मू-कश्मीर सरकार ने अलर्ट जारी किया है और लोगों को नदियों के किनारे जाने से मना किया गया है। प्रशासन ने जम्मू के सभी जिलों में आपदा प्रबंधन और बचाव दल की एक दर्जन से अधिक टीमों को लगाया है। सेना भी राहत और बचाव के काम में जुटी हुई है। सेना ने बाढ़ प्रभावित इलाकों से हेलिकॉप्टर के जरिए कई लोगों को सुरक्षित स्थान पर पहुंचाया है।
भूस्खलन के कारण श्रीनगर-लेह हाईवे को बंद कर दिया गया। अनंतनाग और कुलगाम जिले के 30 से ज्यादा गांव अब तक बाढ़ की चपेट में आ गए हैं। पुलिस और स्थानीय प्रशासन ने सेना और राहत दल की मदद से पुंछ, राजौरी, रियासी जिले और कश्मीर घाटी के कुलगाम और सोपिया से सैकड़ों लोगों को सुरक्षित जगह तक पहुंचाया है।
मलबे में दबा बंकर, इंस्पेक्टर की मौत 
पुंछ में नियंत्रण रेखा के नजदीक मंडी मंदिर इलाके में भूस्खलन और भारी बारिश के कारण मलबा बंकर पर गिर गया, जिसमें मौजूद बीएसएफ की 154वीं बटालियन के इंस्पेक्टर मोहम्मद राशिद दब गए। मलबे से उनका शव निकाला गया। वहां मौजूद कुछ जवानों को भी मामूली चोटें आई हैं। इसी इलाके में बीएसएफ के कुछ हथियारों के भी बह जाने की खबर है।
मंडी में भूस्खलन से तीन बच्चों सहित पांच जिंदा दफन
पुंछ के मंडी इलाके में ही दो और लोगों के बाढ़ के कारण मारे जाने की आशंका है। रियासी जिले के दूरवर्ती मोमनकोट क्षेत्र में भूस्खलन के कारण तीन बच्चों समेत पांच लोग जिंदा दफन हो गए।

बॉलीवुड अभिनेत्री प्रियंका चोपड़ा के कारण काफ़ी चर्चा में है, लेकिन यह फ़िल्म मणिपुर में ही नहीं दिखाई जाएगी

priyanka_chopda_mary_kom_624x351_viacom18
image_pdfimage_print
गुरुवार, 4 सितंबर, 2014
फ़िल्म मैरी कॉम

ओलंपिक मेडल जीतने वाली भारत की पहली महिला बॉक्सर मैरी कॉम के संघर्षों पर बनी फ़िल्म बॉलीवुड अभिनेत्री प्रियंका चोपड़ा के कारण काफ़ी चर्चा में है, लेकिन यह फ़िल्म मणिपुर में ही नहीं दिखाई जाएगी.

पांच सितंबर को पूरे भारत में यह फ़िल्म रिलीज़ हो रही है लेकिन मणिपुर में ये फ़िल्म नहीं देखी जा सकेगी क्योंकि मणिपुर में हिन्दी फ़िल्मों पर प्रतिबंध है.

हालांकि मैरी कॉम के प्रशंसक इस फ़िल्म को इंटरनेट और सीडी आदि पर इसे देख सकते हैं.

हालांकि मणिपुर के लोगों को लगता है कि एक इस फ़िल्म में भी भेदभाव नज़र आता है क्योंकि इस फ़िल्म में मैरी कॉम की केंद्रीय भूमिका में पूर्वोत्तर की किसी अभिनेत्री को नहीं लिया गया है.

मणिपुर से आने वाली सनी तायेंग कहती हैं, ”प्रियंका चोपड़ा का मेकअप करके उन्हें मैरी कॉम का लुक दिया गया, लेकिन मणिपुर में क्या अभिनेत्रियों की कमी है? असल में बॉलीवुड में मणिपुरी अभिनेत्रियों को मौक़ा नहीं दिया जाता.”

डायरेक्टर की पसंद

मणिपुरी युवतियां

हालांकि दयावती कहती हैं, ‘प्रियंका चोपड़ा इनती बड़ी स्टार हैं कि अगर कोई मणिपुरी अभिनेत्री चुनी जाती तो फ़िल्म को इतना प्रचार नहीं मिलता. अगर मैं भी फ़िल्म निर्देशक होती तो प्रियंका को ही कास्ट करती. हर डॉयरेक्टर की अपनी पसंद होती है.”

दिल्ली में पढ़ाई कर रहे डैनियल का कहना है, ”मणिपुर में भी फिल्म को रिलीज़ होनी चाहिए, क्योंकि ये फिल्म यहीं के एक महिला बॉक्सर पर बनी है. वहां भी लोग इस फ़िल्म को देखना चहाते हैं.”

दियाना का कहती हैं, ”अंदरुनी राजनीति के कारण यह फ़िल्म राज्य में रिलीज़ नहीं हो पा रही है, लेकिन इसे दिखाने के लिए कोई ख़ास प्रबंध होने चाहिए.”

पश्चिमी अफ़्रीका के देशों में इबोला के संक्रमण से अब तक 1900 से अधिक लोगों की मौत

ebola
image_pdfimage_print
गुरुवार, 4 सितंबर, 2014

विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) ने कहा है कि पश्चिमी अफ़्रीका के देशों में इबोला के संक्रमण से अब तक 1900 से अधिक लोगों की मौत हो चुकी है.

डब्ल्यूएचओ की प्रमुख माग्रेट चान ने कहा कि गिनी, सियेरा लियोन और लाइबेरिया में इस जानलेवा वाइरस के 3500 लोग या तो संक्रमित हैं या उनके संक्रमित होने की आशंका है.

डब्लूएचओ गुरुवार को एक बैठक करने जा रहा है, जिसमें इबोला के सबसे अच्छे इलाज़, उसके परीक्षण और उत्पादन पर चर्चा होगी. इस बैठक में प्रभावित देशों के अधिकारी भी भाग लेंगे.

सबसे जटिल

इबोला का वायरस

संगठन ने पहले चेतावनी दी थी कि इस वायरस को नियंत्रण में लाने से पहले इससे 20 हज़ार से अधिक लोग प्रभावित हो सकते हैं.

संस्था की प्रमुख माग्रेट चान ने इलोबा के प्रकोप को अबतक का सबसे बड़ा, सबसे गंभीर और सबसे जटिल बताया.

संगठन का कहना है कि इबोला के संक्रमण से होने वाली मौतों में से 40 फ़ीसदी मौतें पिछले तीन हफ़्तों में हुई हैं.

बुधवार को नाइजीरिया शहर पोर्ट हरकोर्ट में इबोला संक्रमण के दो और मामले सामने आए.

बलात्कार और धोखाधड़ी के मामले में रेल मंत्री सदानंद गौड़ा के बेटे कार्तिक गौड़ा जल्द गिरफ़्तार किए जा सकते हैं

kartik_gowda_304x171_pti
image_pdfimage_print
गुरुवार, 4 सितंबर, 2014

केंद्रीय रेल मंत्री सदानंद गौड़ा के बेटे कार्तिक गौड़ा जल्द गिरफ़्तार किए जा सकते हैं.

पुलिस के दो नोटिस के बावजूद वो बलात्कार और धोखाधड़ी के मामले में निजी तौर पर पेश नहीं हुए.

बेंगलुरू की मेट्रोपॉलिटन अदालत ने कार्तिक गौड़ा के ख़िलाफ़ गिरफ़्तारी वॉरंट जारी किया है.

हालांकि कार्तिक के बारे में फ़िलहाल कोई सूचना नहीं है कि वो कहां हैं.

मामला

एक कन्नड़ अभिनेत्री और मॉडल मैत्रेयी ने रेलमंत्री के बेटे पर बलात्कार और धोखाधड़ी का आरोप लगाया है. पीड़िता की शिकायत पर बुधवार देर रात कार्तिक के ख़िलाफ़ बलात्कार और धोखाधड़ी का मामला दर्ज किया गया.

हालांकि कार्तिक ने कहा कि यह उनके पिता की छवि बिगाड़ने की साज़िश है. उनके अनुसार वह महिला को जानते तक नहीं.

मॉडल और कन्नड़ फ़िल्म में अभिनेत्री की भूमिका निभा चुकी एक युवती का दावा है कि कार्तिक के साथ उसकी शादी हुई है, फिर भी बुधवार को उन्होंने सगाई की.

बांग्लादेश टेक्स्टबुक बोर्ड इस वर्ष 32 करोड़ से ज़्यादा पाठ्यपुस्तकें प्रकाशित

bangladeh_child_labour_in_printing_press_624x351_bbc
image_pdfimage_print
 गुरुवार, 4 सितंबर, 2014
बांग्लादेश पाठ्यपुस्तक प्रकाशन

बांग्लादेश टेक्स्टबुक बोर्ड इस वर्ष 32 करोड़ से ज़्यादा पाठ्यपुस्तकें प्रकाशित कर रहा है. इन पुस्तकों को अगले साल जनवरी में एक से नौ तक के छात्रों के बीच मुफ़्त में बांटा जाएगा.

इन पुस्तकों के एक बड़े हिस्से की छपाई पुराने ढाका के बांग्ला बाज़ार और आस-पास के इलाक़ों में होती है.

इस समय यहां प्रिंटिंग सीज़न पूरे उफ़ान पर है. प्रिंटिंग प्रेस और बुक बाइंडिंग फ़ैक्ट्रियों में आधे कामगार बाल श्रमिक हैं. स्कूल न जा पाने वाले ये बच्चे अपनी ही उम्र के बच्चों के लिए पाठ्य पुस्तकें तैयार करने में 14 से 15 घंटे काम करते हैं.

पढ़ें शहनाज़ परवीन की पूरी रिपोर्ट

पुराने ढाका के बांग्ला बाज़ार में आजकल लगभग हर फ़ैक्ट्री में छपे हुए काग़ज़ों और किताबों का अंबार लगा हुआ है. इन्हें ले जाने वाले रिक्शे व्यस्त हैं. मोहम्मद शागोर पंद्रह दिन पहले यहां एक प्रिंटिंग फ़ैक्ट्री में ट्रेनी के तौर पर काम करने आए थे.

वो बताते हैं, ”मेरा ख़र्च उठाने में अक्षम मेरे परिजनों में मुझे यहां काम करने के लिए भेजा था. मैं यहां सीखने आया था. पंद्रह दिन में ही मैंने काग़ज़ों को मोड़ना सीख लिया था और अब मैं मशीन भी चला सकता हूं.”

बांग्लादेश बाल श्रमिक

इस इलाक़े में काम करने वाले चौदह वर्षीय शागोर अकेले लड़के नहीं हैं. यहां आने वाला हर लड़का ग़रीबी के कारण आता है.

कुछ साल पहले मोहम्मद बाबुल का घर नदी के कटाव में बह गया और उनके पिता किसी अज्ञात बीमारी में चल बसे. इन परिस्थितियों ने उनकी मां को उन्हें काम पर भेजने को मजबूर किया.

बाबुल कहते हैं, ”पिता और फिर घर खोने के बाद कुछ समय तक हम इधर-उधर भटकते रहे. उसके बाद मैं यहां काम करने आ गया.”

उन्होंने तीसरी तक पढ़ाई की है लेकिन अब वो छठी के छात्रों के लिए किताबें छापने में मदद कर रहे हैं.

वो कहते हैं, ”ये किताबें अलग-अलग ज़िलों में जाएंगी, मेरे ज़िले में भी. अन्य बच्चे इन्हें पढ़ेंगे इसलिए बुरा लगता है कि मैं इन क़िताबों को नहीं पढ़ पाउंगा. इसकी बजाय मुझे काम करना है.”

फ़ैक्ट्री ओनर्स एसोसिएशन का कहना है कि इस इलाक़े में 500 प्रिंटिग प्रेस और 300 बुक बाइंडिंग फ़ैक्ट्री हैं, जिनमें आधे मज़दूर बच्चे हैं.

ये बच्चे इन भरे हुए कमरों में काम करते हैं, जहां सूरज की रोशनी कभी नहीं पहुंचती.

जब हम बाबुल से मिले तो बाबुल विज्ञान की क़िताब को सूई और धागे से सी रहे थे.

परिजन ही भेजते हैं

बांग्लादेश, बुक बाइंडिंग फैक्ट्री

वो कहते हैं, ”पहले पहल मैं मालिकों के लिए चाय पहुंचाने का काम करता था. धीरे धीरे मैंने काम सीख लिया. अब मैं किताबों को सी सकता हूं या गोंद से चिपका सकता हूं. कभी कभी तो मैं काग़ज़ काटने वाली मशीन भी चलाता हूं.”

हर साल कटिंग मशीन से किसी न किसी की अंगुली कट जाती है. फिर इन बच्चों को उनके घर वापस भेज दिया जाता है.

बाबुल जहां काम करते हैं वहां से कुछ ही दूरी पर एक अन्य बाइंडिंग फैक्ट्री है.

बारह साल के मोहम्मद शहिदुल कहते हैं, ”मैं पढ़ाई नहीं करना चाहता था इसलिए मेरी मां ने कहा, यदि तुम स्कूल नहीं जाना चाहते तो काम करो. अब मैं सुबह सात बजे से रात 10 बजे तक काम करता हूं. दोपहर में एक घंटे का लंच होता है.”

शहिदुल को लगता है कि उन्हें स्कूल जाना चाहिए था. शाहिदुल जैसे बच्चों को प्रशिक्षु के तौर पर प्रतिमाह 1200 से 1500 टका (900 से 1200 रुपए) मिलता है.

एक अन्य बाल श्रमिक अली इमरान कहते हैं, ”चार वर्ष बाद अब मैं हर महीने तीन हज़ार टका (2400 रुपए) कमा लेता हूं.”

ग़रीबी है मज़बूरी

बांग्लादेश बाल मज़दूरी

वो कहते हैं, ”मालिक ने घर और खाने का बंदोबस्त कर दिया है. मैं दो हज़ार टका घर भेज देता हूं. मैं आत्मनिर्भर महसूस करता हूं.”

फ़ैक्ट्री मालिक मोहम्मद अब्दुल क़ुद्दूस कहते हैं कि बच्चे जब घर पैसा भेजते हैं तो अन्य परिवार भी अपने बच्चों को इस उद्योग में भेजने के लिए प्रोत्साहित होते हैं.

वे अपने पड़ोसियों या रिश्तेदार के साथ आते हैं लेकिन कभी-कभी मालिक इन्हें अपने गांव से खुद लाते हैं.

क़ुद्दूस ने बताया, ”जहां से मैं हूं, वहां नदी का कटाव बहुत ज़्यादा है. कुछ-कुछ सालों पर लोग अपना घर गंवा देते हैं. अधिकांश घरों में कमाने वाला केवल एक व्यक्ति होता है. इसलिए वे अपने बच्चों को स्कूल भेजना बंद कर देते हैं. परिजन मुझसे खुद ही बच्चों को काम पर ले जाने को कहते हैं.”

हालांकि शागोर या शाहिदुल जैसे बच्चों का कहना है कि उन्हें याद नहीं कि पिछली बार कब उन्होंने खेला था. जिस छोटी जगह वे काम करते हैं वहीं वे खाते और सोते हैं.

किताबों से ठुसी जगह में वे अपने दिन बिताते हैं लेकिन वे इन्हें कभी नहीं पढ़ पाएंगे.

बदायूं में हुए सामूहिक बलात्कार और हत्या के मामले में तीन अभियुक्तों को ज़मानत

rape_badaun_624x351_afp_nocredit
image_pdfimage_print
गुरुवार, 4 सितंबर, 2014

उत्तर प्रदेश के बदायूं में दो बहनों के साथ हुए सामूहिक बलात्कार और हत्या के मामले में तीन अभियुक्तों को ज़मानत मिल गई है.

पप्पू यादव और उसके भाई अवधेश यादव और उर्वेश यादव इस मामले में गिरफ़्तार किए गए थे. इनमें से प्रत्येक को दो-दो लाख रुपये की ज़मानत लेनी पड़ी.

बदायूं के पुलिस अधीक्षक मानसिंह चौहान ने बताया कि बृहस्पतिवार को तीनों अभियुक्तों की गिरफ़्तारी के 90 दिन पूरे हो गए और सीबीआई ने अभियुक्तों के ख़िलाफ़ कोई चार्जशीट दाख़िल नहीं की और ना ही उन्हें रिमांड पर लेने की कोई दरख़्वास्त दी.

ज़मानत की अर्ज़ी मंज़ूर होने के बावजूद अभी सभी अभियुक्तों की जेल से रिहाई में वक़्त लगेगा क्योंकि ज़मानत के लिए जमा किए गए आर्थिक विवरण की जांच में थोड़ा समय लगता है.

आरोप

इन तीनों पर आरोप था कि इन्होने दोनों बहनो के साथ सामूहिक बलात्कार और हत्या करने के बाद उनके शवों को पेड़ से लटका दिया था.

घटना बदायूं के कटरा सआदतगंज गाँव की थी.

पुलिस कांस्टेबल सर्वेश यादव और छत्रपाल गंगवार की ज़मानत अर्ज़ी एक सितम्बर को मंज़ूर कर ली गई.

उत्तर प्रदेश पुलिस की तरह सीबीआई को भी शक है कि ये हत्याएं परिवार के सम्मान के लिए की गई थीं.

मौजूदा समय में ये दोनों देश के सबसे ज़्यादा शक्तिशाली व्यक्ति

amit_shah_624x351_ap
image_pdfimage_print
गुरुवार, 4 सितंबर, 2014

नरेंद्र मोदी भारत के प्रधानमंत्री हैं तो अमित शाह केंद्र की एनडीए सरकार के सबसे बड़े दल भारतीय जनता पार्टी के अध्यक्ष. ये कहना शायद ग़लत नहीं होगा कि मौजूदा समय में ये दोनों देश के सबसे ज़्यादा शक्तिशाली व्यक्ति हैं.

लेकिन बावजूद इसके इनके दामन पर गुजरात दंगे और फ़र्ज़ी मुठभेड़ के ऐसे दाग़ हैं जिन्हें मिटाना शायद आसान नहीं है.

हालांकि एक बड़ा सवाल ये भी है कि ऐसे में इन मामलों का अब क्या होगा? क्या न्यायालय और पुलिस मोदी और अमित शाह के ख़िलाफ़ कोई कार्रवाई कर पाएगी?

उन लोगों की उम्मीदों का क्या होगा, जो सालों से न्याय की आस में गुजरात प्रशासन के ख़िलाफ़ लड़ाई लड़ रहे हैं. इन्हीं सवालों के जवाब तलाशने के लिए बीबीसी संवाददाता ज़ुबैर अहमद पहुंचे गुजरात की राजधानी अहमदाबाद.

ज़ुबैर अहमद की ग्राउंड रिपोर्ट, विस्तार से

अहमदाबाद के एक पुराने इलाक़े के एक बड़े हॉल में कई लोग एक समारोह में शामिल हैं जिनमें से अधिकतर उन लोगों के जानने वाले या रिश्तेदार हैं जिनकी गुजरात पुलिस द्वारा फ़र्ज़ी मुठभेड़ में हत्या कर दी गई थी. कुछ ऐसे लोग भी हैं जिनके रिश्तेदार 2002 के दंगों में मारे गए थे.

जन संघर्ष मंच नामक संस्था ने अपने संस्थापक मुकुल सिन्हा की याद में इस समारोह का आयोजन किया था. मुकुल सिन्हा की मृत्यु नरेंद्र मोदी के प्रधानमंत्री पद के शपथग्रहण समारोह के एक दिन पहले हुई थी.

मुकुल सिन्हा की याद में समारोह का आयोजन प्रतीक है कि नरेंद्र मोदी के काल में हुए फ़र्ज़ी मुड़भेड़ और दंगों के पीड़ितों के लिए उनके द्वारा शुरु किया गया संघर्ष उनकी मौत के बाद भी जारी है.

मंच के वकील शमशाद पठान कहते हैं, “मुकुल सिन्हा ने गुजरात सरकार द्वारा हुए अत्याचार के ख़िलाफ़ जो संघर्ष छेड़ा था उसे जन संघर्ष मंच ने जारी रखा है.”

जारी है संघर्ष

पठान आगे कहते हैं, “मुकुल भाई हमेशा कहा करते थे कि ये लड़ाई इंसानियत के दुश्मनों के ख़िलाफ़ है और हम उसी रोशनी में इस लड़ाई को आगे बढ़ा रहे हैं.”

जन संघर्ष मंच के वकील शमशाद पठान मुकुल सिन्हा की लड़ाई को आगे बढ़ा रहे हैं.

अनवर शेख़ एक सामाजिक कार्यकर्ता हैं और दंगा पीड़ितों के अधिकार के लिए लड़ते रहे हैं. वो कहते हैं, “मोदी जी किसी भी पोस्ट पर बैठे हों 2002 के दंगे उनका पीछा नहीं छोड़ेंगे. ऐसा कोई साबुन नहीं बना है जिससे दंगों का दाग़ धुल जाए.”

भाजपा के अध्यक्ष अमित शाह के ख़िलाफ़ मुंबई में ‘सोहराबुद्दीन फ़र्ज़ी मुड़भेड़’ के मामले में हत्या का मुक़दमा चल रहा है. इस केस में वो 2010 में तीन महीने के लिए जेल भी गए और अब ज़मानत पर रिहा हैं. इस सन्दर्भ में उन्हें दो साल तक गुजरात में प्रवेश करने की इजाज़त नहीं दी गई थी.

सोहराबुद्दीन के भाई रुबाबुद्दीन भी इस समारोह में शामिल होने के लिए अपने राज्य मध्यप्रदेश से आए हुए हैं. उनका कहना है कि बीजेपी सरकार अमित शाह को बचाने कि कोशिश में लगी है.

अमित शाह पर सवाल

वो कहते हैं, “दुनिया तो देखी नहीं मैंने लेकिन भारत देखा है और इस देश के अंदर कभी ऐसा नहीं हुआ है कि किसी के ख़िलाफ़ हत्या का मुक़दमा चल रहा हो और उसे पूरी पार्टी ही सौंप दी जाए. उन्हें बचाने के लिए उन्हें बड़ा आदमी बनाया गया है.”

रुबाबुद्दीन अमित शाह को भारतीय जनता पार्टी अध्यक्ष बनाए जाने से हैरत में हैं.

न्याय प्रणाली पर विश्वास के साथ रुबाबुद्दीन कहते हैं, “हम अपनी लड़ाई जारी रखेंगे.”

फ़र्ज़ी मुड़भेड़ में मारे गए सादिक़ जमाल के भाई शब्बीर भावनगर से इस समारोह में भाग लेने आए थे. उनके अनुसार “गुजरात पुलिस ने मेरे भाई को लश्कर-ए-तोएबा का आतंकवादी कहकर मारा था. बाद में अदालत में सरकार ने माना कि मेरे भाई की हत्या एक फ़र्ज़ी मुड़भेड़ में हुई थी.”

वो कहते हैं आतंकवादी कहे जाने वाला मेरा भाई देश प्रेमी था. “शायद इसीलिए इस साल 15 अगस्त को मेरा एक लड़का पैदा हुआ है. मेरा भाई ज़िंदा होता तो काफ़ी गर्व महसूस करता.”

शब्बीर को ऐतराज़ इस बात पर है कि कई अभियुक्तों को जेल से रिहा किया जा रहा है. कोडनानी को छोड़ दिया. अभय चुडासमा को रिहा कर दिया गया है जिससे उन्हें डर है कि फ़र्ज़ी मुठभेड़ के मुक़दमों पर असर पड़ सकता है.

मुक़दमों पर पड़ेगा असर

शब्बीर उत्तेजित होकर कहते हैं, “मेरा कहना है कि अगर आपको सभी को छोड़ना है तो एक-एक करके क्यों छोड़ा जा रहा है. पूरा साबरमती जेल क्यों नहीं ख़ाली कर देते?”

अनवर शेख़ कहते हैं, “जहाँ मोदी के कहे बिना पत्ता भी नहीं हिलता था और ऐसे माहौल में जब अगर कोई अफ़सर बिना कोई आदेश के इतनी बड़ी कार्रवाई करता है तो ये किसी के समझ के बाहर है.”

“जहाँ सुशासन और मोदी के कमांड की बात थी तो सारी बातें जब मोदी के नॉलेज में होती थीं तो फ़र्ज़ी मुड़भेड़ क्यों नहीं होते थे? ये आज भी मेरे दिमाग़ में एक सवाल बना हुआ है.”

आम धारणा ये बनाई गई है कि नरेंद्र मोदी को गुजरात दंगों के एहसान जाफ़री हत्या मामले में क्लीन चिट दे दी गई है. लेकिन इसके विपरीत ये मुक़दमा अभी केवल गुजरात की निचली अदालत में है जिसकी मदद के लिए सुप्रीम कोर्ट ने एक विशेष जांच दल का गठन ये जानने के लिए किया था कि मोदी का दंगों में हाथ था या नहीं?

गुजरात: फ़र्ज़ी पुलिस मुठभेड़

2002 से 2007 के बीच 21 फ़र्ज़ी मुठभेड़ कांड हुए थे. इनमें प्रमुख हैं-

  • सादिक जमाल (2003)
  • इशरत जहां (2004)
  • सोहराबुद्दीन शेख (2005)
  • तुलसीराम प्रजापति (2006)

नरेंद्र मोदी को क्लीन चिट दरअसल इस विशेष जांच दल ने दी है. अब निचली अदालत को इस दल के क्लीन चिट को देखते हुए मोदी के ख़िलाफ़ लगाए गए इल्ज़ामों पर फ़ैसला सुनाना है.

अगर 2002 के दंगों में कांग्रेस नेता एहसान जाफ़री की हत्या वाले मामले में उनकी विधवा ज़किया जाफ़री निचली अदालत के आने वाले फ़ैसले से संतुष्ट न हुईं तो वो हाई कोर्ट और सुप्रीम कोर्ट तक जा सकती हैं.

मोदी विरोधी और गुजरात के पूर्व पुलिस चीफ़ आरबी श्रीकुमार कहते हैं, “इन दिनों मोदी के बारे में एक यूफ़ोरिया है. हिन्दू लोग समझते हैं कि वो एक हिन्दू धर्मरक्षक हैं. इस सूरत में अगर अच्छे न्यायाधीश भी हों तो वो अनिच्छुक होंगे मोदी के ख़िलाफ़ जाने में क्यूंकि इसके चलते वो सामाजिक बहिष्कार का सामना कर सकते हैं.”

श्रीकुमार कहते हैं, “मोदी का विरोध करने वालों का ख़ुद परिवार के अंदर भी बहिष्कार हो सकता है जैसा कि मेरे साथ हो रहा है. मैंने मोदी को चैलेंज किया है और मेरे ही परिवार में इसके चलते मेरा सामाजिक बहिष्कार कर दिया गया है.”

मोदी पर 15 इलज़ाम

नरेंद्र मोदी का विरोध करने पर गुजरात के पूर्व पुलिस प्रमुख आरबी श्रीकुमार को अपने ही परिवार के बहिष्कार का सामना करना पड़ा.

अब तक ये देखा गया है कि गुजरात की निचली अदालतों के फ़ैसले अक्सर गुजरात सरकार के हक़ में जाते हैं. और हाई कोर्ट और सुप्रीम कोर्ट के फ़ैसले निचली अदालतों के फ़ैसलों को रद्द कर देते हैं. गुजरात फ़र्ज़ी मुड़भेड़ मुक़दमों में ऐसा ही रुझान देखा गया है.

ज़किया जाफ़री ने नरेंद्र मोदी के ख़िलाफ़ 15 इलज़ाम लगाए हैं जिनमें 2002 के दंगों के दौरान अहमदाबाद के गुलबर्ग सोसाइटी में 68 लोगों की हत्या और 58 लोगों के ख़िलाफ़ साज़िश रचने का इलज़ाम ख़ास है. एहसान जाफ़री इसी हत्या काण्ड में मारे गए थे.

इस साल के आम चुनाव से पहले तक नरेंद्र मोदी और अमित शाह गुजरात के बेताज बादशाह थे अब वो भारत के शक्तिशाली व्यक्ति हैं. तो उनके ख़िलाफ़ अदलतों में चल रहे मुक़दमों का अब क्या होगा? इसका फ़ैसला अदालत पर है. लेकिन इन सभी मुक़दमों में मोदी और शाह ने कहा है उनके ख़िलाफ़ लगे इलज़ाम ग़लत हैं.

शमशाद पठान कहते हैं कि मुश्किल ज़रूर है लेकिन वे ये जानते हैं कि सरकार अलग है और प्रशासन अलग. वे कहते हैं, “हम मानते हैं कि हमारा लोकशाही का ढांचा मज़बूत है. एक दो लोगों के सत्ता में आ जाने से लोकशाही का ढांचा गिरेगा नहीं.”

शुक्रवार को शिक्षक दिवस के मौक़े पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी दोपहर तीन बजे से पौने पाँच बजे तक देशभर के स्कूली छात्रों को संबोधित करेंगे

narendra_modi_624x351_reuters
image_pdfimage_print
गुरुवार, 4 सितंबर, 2014
नरेंद्र मोदी भाषण

शुक्रवार को शिक्षक दिवस के मौक़े पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी दोपहर तीन बजे से पौने पाँच बजे तक देशभर के स्कूली छात्रों को संबोधित करेंगे.

केंद्रीय मानव संसाधन मंत्रालय ने इस विषय में देशभर के सभी स्कूलों से प्रधानमंत्री का भाषण दिखाने के लिए ज़रूरी इंतेज़ाम करने के लिए कहा है.

दिल्ली सरकार ने भी इस विषय में सभी स्कूलों को सर्कुलर जारी किया है.

इस सर्कुलर की पाँच ख़ास बातें- यहाँ पढ़ें पूरा सर्कुलर

1. सभी सरकारी, ग़ैर-सरकारी स्कूल बच्चों को प्रधानमंत्री का भाषण सुनाने के लिए सभी ज़रूरी इंतेज़ाम करें.

2. ज़रूरी संख्या में टेलिविज़न सैट, सेट टॉप बॉक्स कनेक्शन, प्रोजेक्टर, स्क्रीन, एंप्लीफ़ायर, जेनरेटर या इन्वर्टर सेट की व्यवस्था की जाए. यदि न हों तो किराए पर मँगाए जाएं. सरकारी स्कूलों में किराए पर सामान मँगाने का ख़र्च विद्यालय कल्याण समिति उठाएगी.

3. ‘सीधे प्रसारण’ के दौरान अनुशासन बनाए रखें.

4. कार्यक्रम शुरु होने से पहले सभी स्कूल भाषण सुनने वाले छात्रों की संख्या वेबसाइट लिंक पर अपडेट करें.

5. सभी दिशा निर्देशों का सख़्ती से पालन कराया जाए. लापरवाही को गंभीरता से लिया जाएगा.

इंडियन एजुकेशन में स्किल और पर्सनेलिटी डिवेलपमेंट की ज्यादा जरूरत

image_pdfimage_print

नगर संवाददाता, नई दिल्ली 04.09.2014,
दिल्ली के स्कूल…हाई-फाई। यहां की पढ़ाई वो भी…हाई-फाई। लेकिन स्टूडेंट्स का क्या? करीब 91 पर्सेंट टीचर्स ने माना है कि स्कूलों में पढ़ाई सिर्फ स्टूडेंट्स को पास कराने के मोटिव से कराई जाती है। उन्हें सब्जेक्ट की इनडेप्थ नॉलेज नहीं दी जाती। पीयरसन वॉइस ऑफ टीचर (दिल्ली) 2014 की ओर से हुए इस सर्वे में एक बात सामने आई है कि इंडियन एजुकेशन में स्किल और पर्सनेलिटी डिवेलपमेंट की ज्यादा जरूरत है। यह सर्वे खास टीचर्स डे के मौके पर कराया गया है जिसमें न सिर्फ दिल्ली को बल्कि इंडिया की कई स्टेट्स के एजुकेशन सिस्टम को फोकस किया गया है। सर्वे के कुछ मुख्य अंश : 
लर्निंग एनवायरनमेंट हुआ चेंज 
पहले के मुकाबले दिल्ली के स्कूलों में लर्निंग एनवायरनमेंट अच्छा हुआ है। ऐसा सर्वे में शामिल 80 पर्सेंट टीचर्स का भी मानना है। स्कूलों में स्मार्ट क्लासेज शुरू होने से इसका असर देखने को मिल रहा है। लेकिन हायर एजुकेशन में अभी भी हम इंडिया की बाकी स्टेट्स से थोड़ा पीछे हैं। करीब 79 पर्सेंट टीचर्स के मुताबिक कॉलेज लेवल पर एजुकेशन अच्छी है। जबकि दिल्ली में सैंकड़ों कॉलेज हैं। 
एजुकेशन सिस्टम 
पैरंट्स की एक ही शिकायत रहती है, कि मेरा बेटा/बेटी सिर्फ एग्जाम टाइम में ही पढ़ते हैं। ऐसा सच भी है। सर्वे में भी कुछ ऐसा ही सामने आया है। 91 पर्सेंट टीचर्स का मानना है कि स्कूलों की पढ़ाई का सिर्फ एक मोटिव होता है कि स्टूडेंट्स फाइनल एग्जाम पास कर जाए और पास पर्सेंटेज पर कोई असर न पड़े। ऐसा होना एजुकेशन सिस्टम पर एक सवालिया निशान खड़े करता है। यह हैं अनफिट!
आंकड़े काफी चौंकाने वाले हैं। सर्वे में शामिल करीब 94 पर्सेंट टीचर्स ने माना है कि एक क्लास में आधे से ज्यादा स्टूडेंट ऐसे होते हैं जिन्हें बेसिक नॉलेज तक नहीं होती। वह स्किल डिवेलपमेंट से लेकर टेक्निकल नॉलेज और पर्सनेलिटी डिवेलपमेंट में भी काफी वीक होते हैं।
मेजर टेक्नॉलजी ट्रेंड
– इंटरनेट स्टडी – 3.8
– स्कूलों में डिजिटल लर्निंग – 3.6
– ऑडियो – वीडियो टीचिंग – 3.5

स्कूलों में दो वॉटर टैंक होने के बाद भी एक में ताला

image_pdfimage_print

दिल्ली कैंट 04.09.2014,
दिल्ली कैंटोनमेंट बोर्ड के कुछ स्कूलों की हालत काफी खराब है। यहां आवारा पशु डेरा जमाए रहते हैं। 500 बच्चों के स्कूल में सिर्फ एक फिल्टर्ड वॉटर टैंक लगाया गया है। कुछ स्कूलों में दो वॉटर टैंक होने के बाद भी एक में ताला लगा हुआ है। बोर्ड के झरेड़ा गांव, मेहरामनगर और ऊरी एनक्लेव के स्कूलों में टॉयलेट और पीने की पानी की व्यवस्था नहीं है। 
झरेड़ा गांव : साफ पानी नहीं 
बोर्ड की निगरानी में आने वाले झरेड़ा गांव के स्कूल में 9वीं में पढ़ने वाली सीमा (बदला हुआ नाम) से जब हमने स्कूल की हालत के बारे में सवाल पूछा तो वह रो पड़ी। उसने रोते-रोते कहा कि स्कूल में टॉयलेट की व्यवस्था न के बराबर है। टॉयलेट को मेंटेन नहीं करने से काफी स्मेल आती है। बच्चे बताते हैं कि उन्हें साफ पानी नहीं मिलता। 
मेहरामनगर : टॉयलेट बना कुत्तों का अड्डा 
मेहरामनगर के स्कूल में सैकड़ों बच्चे पढ़ते हैं। यहां दो वॉटर टैंक बने हुए हैं। बच्चों के लिए सिर्फ एक ही वॉटर टैंक लगा हुआ है। इसमें से पानी बहता रहता है। टॉयलेट की हालत खराब होने की वजह से बच्चे भले ही इसमें न जाते हों, लेकिन यहां आवारा कुत्ते सोते रहते हैं। 

नजफगढ़ के कृष्ण विहार ईस्ट और वेस्ट खेड़ा रोड पर अतिक्रमण को पूरी तरह साफ कर दे

image_pdfimage_print

फरीदकोट हाउस 04.09.2014,
नैशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल (एनजीटी) ने साउथ एमसीडी को निर्देश दिया है कि वह नजफगढ़ के कृष्ण विहार ईस्ट और वेस्ट खेड़ा रोड पर बिल्डिंग मटीरियल सप्लायर द्वारा किए गए अतिक्रमण को पूरी तरह साफ कर दे। साउथ एमसीडी को यह काम पूरा करने के लिए तीन हफ्तों का समय दिया गया है। 
एनजीटी चेयरपर्सन जस्टिस स्वतंत्र कुमार की अगुवाई वाली बेंच ने मामले में दाखिल याचिका का निपटारा करते हुए यह आदेश जारी किया। बेंच ने साउथ एमसीडी को निर्देश देते हुए कहा कि वह संबंधित इलाके में बिल्डिंग मटीरियल सप्लाई करने वालों के अतिक्रमण को हटाने का काम तीन हफ्तों के भीतर पूरा कर ले और एफिडेविट दाखिल कर कार्रवाई की कंप्लायंस रिपोर्ट ट्रिब्यूनल के रिकॉर्ड में दर्ज कराए। इस काम में स्थानीय पुलिस थाने के एसएचओ को मदद करने का भी निर्देश दिया गया है। 
सुनवाई के दौरान साउथ एमसीडी की ओर से पेश वकील ने बेंच को जानकारी देते हुए संबंधित इलाके से अतिक्रमण हटा देने की बात कही। याचिकाकर्ता रविंद्र यादव की ओर से एडवोकेट रजत राठी ने निगम की इस दलील का विरोध किया। उन्होंने बेंच को बताया कि इलाके से एनक्रोचमेंट को पूरी तरह साफ नहीं किया गया है। अतिक्रमण का 10 से 15 फीसदी हिस्सा अभी भी वहां मौजूद है जिससे पर्यावरण को नुकसान पहुंच रहा है। इस पर साउथ एमसीडी की ओर से पेश वकील ने बेंच को भरोसा दिलाया कि यदि ऐसा है तो उसे तीन हफ्तों के भीतर पूरी तरह साफ कर दिया जाएगा। 
नजफगढ़ निवासी रविंद्र यादव ने ट्रिब्यूनल में याचिका दाखिल कर यहां के कृष्ण विहार ईस्ट और वेस्ट खेड़ा रोड से बिल्डिंग मटीरियल के गैरकानूनी ढंग से ट्रांसपोर्टेशन, स्टोरिंग और बिक्री पर प्रतिबंध लगाए जाने और इलाके को इस अतिक्रमण से मुक्ति दिलाने का निर्देश देने की मांग की थी। याचिका में कहा गया था कि यहां पर्यावरण संबंधी कानूनों का उल्लंघन हो रहा है। बिल्डिंग मटीरीयल सप्लाई करने वाले लोग स्थानीय लोगों की सेहत को नुकसान पहुंचा रहे हैं। इसमें दिल्ली सरकार, दिल्ली पॉल्यूशन कंट्रोल कमिटी (डीपीसीसी), साउथ एमसीडी और रेवेन्यू डिपार्टमेंट को पक्षकार बनाते हुए उन पर मामले से संबंधित शिकायतों पर कार्रवाई न करने का आरोप लगाया गया था। 

डॉक्टरों का अपॉइंटमेंट लेने के लिए अब आपको लंबी लाइन में लगने की जरूरत नहीं

AIIMS
image_pdfimage_print

वरिष्ठ संवाददाता, नई दिल्ली 04.09.2014,
एम्स में ओपीडी के डॉक्टरों का अपॉइंटमेंट लेने के लिए अब आपको लंबी लाइन में लगने की जरूरत नहीं है। अब आप घर बैठे अपने मोबाइल फोन से अपॉइंटमेंट लेकर नियत समय पर ट्रीटमेंट ले सकेंगे, जिससे समय की बचत होगी और परेशानी से भी बचेंगे। यह सुविधा रजिस्टर्ड पेशंट के लिए है।

दलालों से मिलेगी निजात
एम्स ने यह सुविधा सभी डिपार्टमेंट में लागू की है। इस सुविधा का लाभ उन पेशंट को मिलेगा, जो एम्स में कम से कम एक बार अपना इलाज करा चुके हैं। ऐसे पेशंट को अपॉइंटमेंट के लिए रजिस्ट्रेशन के समय एम्स की ओर से जारी यूनिक हेल्थ आईडेंटिफिकेशन (यूएचआईडी) नंबर बताना होगा। एम्स का दावा है कि इस सिस्टम के शुरू होने से लोगों को लाइन में लगने से निजात मिलेगा। अब तक लोग अपॉइंटमेंट के लिए सुबह उठकर एम्स पहुंचते थे। साथ ही इससे पेशंट और उनके परिजनों को दलालों से भी छुटकारा मिलेगा। जो पेशंट इमर्जेंसी में डॉक्टरों की कंसल्टेंसी चाहेंगे, उनके लिए तत्काल में 25 पर्सेंट अपॉइंटमेंट रिजर्व होगी।

लंबी लाइन से छुटकारा
एम्स के डायरेक्टर डॉ. एम. सी. मिश्रा ने बताया कि हमारा मकसद लोगों को लाइन सिस्टम से छुटकारा दिलाना है। इसलिए इंट्रक्टिव वॉयस रेस्पांस (आईवीआर) बेस्ड अपॉइंटमेंट सिस्टम शुरू किया गया है। इसके लिए एम्स ने नैशनल इन्फॉर्मेंशन सेंटर से मदद ली है और मोबाइल पर अपॉइंटमेंट देने के लिए प्राइवेट वेंडर से मदद ली जा रही है। इस सुविधा के बहाल होते ही एम्स में रोजाना 1500 कॉल आने लगे हैं। डॉक्टर मिश्रा का कहना है कि अभी हम हर विभाग की क्षमता से 20 पर्सेंट अधिक बुकिंग दे रहे हैं।

ऐसे लें अपॉइंटमेंट
एम्स में इस सिस्टम के इंचार्ज डॉ. दीपक अग्रवाल का कहना है कि अपॉइंटमेंट लेने के लिए 092660-92660नंबर डायल करें। इसके बाद 9 या 11 डिजिट का यूएचआईडी नंबर टाइप करें या बोलकर दर्ज कराएं। फिर जिस डिपार्टमेंट में इलाज चाहिए, वहां का नाम लिखकर या बोलकर दर्ज कराएं। इस प्रोसेस के बाद अपॉइंटमेंट का डेट खुलता है। डेट सिलेक्ट करने के बाद कॉलर को मोबाइल पर डॉक्टर के नाम के साथ अपॉइंटमेंट का डिटेल एसएमएस होता है।

यूएचआईडी नंबर जरूरी
डॉ. अग्रवाल ने कहा कि यह सिस्टम एम्स में तैयार किया गया है। इसमें अगर कोई आदमी किसी खास डॉक्टर का अपॉइंटमेंट चाहता है तो वह भी मिल सकता है, लेकिन अगर उस दिन वह डॉक्टर उपलब्ध नहीं है या फिर उनका ओपीडी डेट नहीं है तो फिर अपने आप दूसरे उपलब्ध डॉक्टर का अपॉइंटमेंट मिल जाएगा। यूएचआईडी कार्ड लेने के लिए फिजिकली उपलब्ध होना जरूरी है। इस कार्ड में पेशंट का पूरा डिटेल होता है, जिसमें उनकी बीमारी से लेकर घर का पता तक होता है। एम्स में ऑनलाइन जांच रिपोर्ट की सुविधा भी शुरू हो चुकी है।

बब्बर खालसा इंटरनैशनल (बीकेआई) के एक सदस्य को 5 साल कैद

image_pdfimage_print

वरिष्ठ संवाददाता, पटियाला हाउस 04.09.2014,
अदालत ने प्रतिबंधित संगठन बब्बर खालसा इंटरनैशनल (बीकेआई) के एक सदस्य को मई-2005 में दिल्ली के सत्यम और लिबर्टी सिनेमा हॉल पर हुए बम ब्लास्ट मामले में दोषी करार देते हुए 5 साल कैद की सजा सुनाई है। आरोपी ने अदालत में अपना जुर्म कबूल कर लिया था। 
अडिशनल सेशन जज रीतेश सिंह ने केन्या निवासी सुरिंदर सिंह कांडा को अनलॉफुल एक्टिविटीज (प्रिवेंशन) एक्ट के तहत दोषी करार दिया है। कांडा को 5 साल की सजा सुनाई गई, जो वह ट्रायल के दौरान ही काट चुका है। पुलिन ने कांडा को बीकेआई के सदस्य दिलबाग सिंह को शरण देने के जुर्म में गिरफ्तार किया था। मामले में सह आरोपी सिंह ने भी अदालत के सामने अपना जुर्म कबूल कर लिया था। वह इस केस के सिलसिले में 14 जुलाई, 2005 से लेकर 10 मई, 2010 तक जेल में रहा। अदालत ने कांडा को सजा सुनाते हुए उस पर 10 हजार रुपये का जुर्माना भी लगाया। 
कांडा के वकील एम.एस. खान ने अदालत में अर्जी दायर कर कांडा के जुर्म कबूल करने की बात कही थी, जिसके बाद यह फैसला सुनाया गया। कांडा को बम ब्लास्ट से संबंधित 2 अलग-अलग मामलों में गिरफ्तार किया गया था। दोनों बम ब्लास्ट 22 मई, 2005 को हुए थे। इनमें से एक लिबर्टी और दूसरा सत्यम सिनेमा हॉल में हुआ था। करोल बाग स्थित लिबर्टी सिनेमा के पास रात करीब 8:20 बजे हुए धमाके में एक व्यक्ति की मौत हो गई थी और 55 लोग घायल हुए थे। उसी रात 8:20 बजे पटेल नगर स्थित सत्यम सिनेमा के टॉयलेट में दूसरा धमाका हुआ था। इस धमाके में सिनेमा घर को नुकसान होने के साथ कई लोग घायल हुए थे। मामले में बीकेआई के जगतार सिंह हवारा समेत कई लोगों को आरोपी बनाया गया था। 

आरएमएल अस्पताल, आठ साल के बच्चे का इलाज

image_pdfimage_print

विस, हाई कोर्ट : 04.09.2014, दिल्ली हाई कोर्ट ने आरएमएल अस्पताल से कहा है कि वह आठ साल के बच्चे का इलाज करे जो गंभीर बीमारी हेमेनजियोमा से पीड़ित है। यह बीमारी उस बच्चे को जन्म से ही है और वह बिस्तर पर रहता है। याचिकाकर्ता व बच्चे के पिता ने आरोप लगाया कि एम्स उनके बच्चे का जरूरी इलाज नहीं कर रहा है। हाई कोर्ट ने आरएमएल को निर्देश दिया है कि वह बच्चे को 9 सितंबर को एडमिट करे और एम्स से कहा है कि वह आरएमएल को इस बारे में सूचित करे। याचिकाकर्ता का कहना था कि जन्म से ही एम्स में बच्चे का इलाज चल रहा था, लेकिन कोई फायदा नहीं हुआ।

डीयू स्टूडेंट्स यूनियन (डूसू) चुनाव में इस बार जमकर शक्ति प्रदर्शन

image_pdfimage_print

विस, नई दिल्ली 04.09.2014,
डीयू स्टूडेंट्स यूनियन (डूसू) चुनाव में इस बार जमकर शक्ति प्रदर्शन किया जा रहा है। छात्र संगठन ऑल इंडिया स्टूडेंट्स असोसिएशन (आइसा) ने चुनाव में धन-बल के बढ़ते प्रभाव के खिलाफ 32 कॉलेजों में स्टूडेंट्स की जनरल बॉडी मीटिंग (जीबीएम) बुलाई थी। जीबीएम में तय हुए मुद्दों के आधार पर आइसा ने पोल रिफॉर्म्स की लिस्ट तैयार की है और इन रिफॉर्म्स को लागू करवाने की मांग को लेकर डूसू के चीफ इलेक्शन ऑफिसर को ज्ञापन भी सौंपा है। 
आइसा ने मांग की है कि कैंडिडेट्स को अपने नाम के आगे एएए वर्ड का यूज करने से रोका जाए। दरअसल कैंडिडेटस 1 बैलेट नंबर हासिल करने के लिए अपने नाम के आगे एए वर्ड लगाते हैं। आइसा ने कहा है कि सभी कैंडिडेट्स को बराबरी का मौका मिलना चाहिए। इसके अलावा ईवीएम लगाने के प्रोसेस में पारदर्शिता बरती जानी चाहिए। पोलिंग एजेंट नियुक्त किए जाने चाहिए। आइसा का आरोप है कि इस बार चुनाव प्रचार के दौरान पैसे का जमकर प्रयोग किया जा रहा है और कैंपस में आउट साइडर आ रहे हैं। इस प्रैक्टिस को रोका जाना चाहिए। कुछ छात्र संगठनों द्वारा छात्रों को रिझाने के लिए पार्टियों का आयोजन किया जाता है और इस तरह से इलेक्शन को प्रभावित होने से रोका जाना चाहिए। 

एक साथ कई खेलों में अपने हुनर का लोहा मनवाती थीं : दीप्ति

image_pdfimage_print

नई दिल्ली 04.09.2014,
कुछ साल बाद दीप्ति शतरंज की दूसरी कोनरू हंपी हो सकती थीं। कुछ साल बाद उन्हें पीटी ऊषा की तरह रफ्तार की नई सनसनी कहा जा सकता था। कुछ साल बाद वह कृष्णा पुनिया की तरह डिस्कस थ्रो में अपना नाम रौशन कर सकती थीं। लेकिन अब इन बातों के कोई मायने नहीं क्योंकि दीप्ति अब इस दुनिया में नहीं रहीं। 18 साल की उम्र में एक रोड एक्सिडेंट ने उनकी जान ले ली। दीप्ति की खासियत थी कि वह एक साथ कई खेलों में अपने हुनर का लोहा मनवाती थीं। घर में टंगे कई दर्जन मेडल और ट्रॉफियां इस सच की गवाही हैं कि दीप्ति एक शानदार एथलीट थीं। दीप्ति का गुजर जाना इसलिए भी दुखद है कि उनमें ध्रुव तारे की तरह जगमगा वाली काबिलियत थी जो वक्त से पहले बुझ गई। 
दीप्ति 5 साल की उम्र से स्पोर्ट्स में दिलचस्पी लेने लगी थीं। 18 साल की उम्र तक में उन्होंने तकरीबन 8 राज्यों का दौरा किया। शतरंज, कबड्डी, डिस्कस थ्रो, सौ और दो सौ मीटर दौड़ समेत कई खेल उन्होंने खेले और अवॉर्ड्स लेकर लौटीं। स्कूल गेम्स ऑफ फेडरेशन की ओर से होने वाले खेलों में दीप्ति एक चर्चित नाम थीं। फेडरेशन उन्हें 30 से ज्यादा बार अवॉर्ड्स देकर सम्मानित कर चुका था। सभी प्रतियोगिताओं पर उनकी नजर होती थी और वह खुद अकेले हिस्सा लेने पहुंच जाती थीं। दीप्ति के बड़े भाई दीपेश बताते हैं कि वह भारतीय खेलों को आगे ले जाना चाहती थीं। उन्हीं खेलों में उनकी ज्यादा दिलचस्पी थी और खुद को उसी के हिसाब से तैयार कर रही थीं। दीपेश इस सच को बेझिझक मानते हैं कि उनके तीन-भाई बहनों में दीप्ति सबसे होनहार थी। 
साउथ दिल्ली की सुल्तानपुर कॉलोनी में दीप्ति की रिहाइश थी। उनकी मौत की खबर सुनने के बाद उनके दोस्त और उन्हें पढ़ाने वाले स्कूल टीचर प्रिंसिपल का तांता लग गया। महरौली स्थित सरस्वती बाल मंदिर की रिटायर्ड प्रिंसिपल मनजीत कौर इस हादसे से शॉक्ड हैं। वह कहती हैं कि लापरवाह लोगों के खिलाफ कार्रवाई में कड़ाई की जानी चाहिए। कौर कहती हैं कि दीप्ति की एक खासियत यह भी थी कि वह खेल के साथ-साथ पढ़ाई में भी अव्वल थी। 12वीं क्लास में उन्होंने जियोग्राफी में 99 फीसदी अंक हासिल करके ऑल इंडिया टॉप किया। पॉलेटिकल साइंस में उन्हें 95 फीसदी नंबर मिले। 2 जून को एचआरडी मिनिस्टर स्मृति ईरानी ने उनकी अकादमिक काबिलियत को देखते हुए प्रशस्ति-पत्र भी दिया था। 
12वीं क्लास में उन्होंने जियोग्राफी में 99 फीसदी अंक हासिल करके ऑल इंडिया टॉप किया। 
2 जून को एचआरडी मिनिस्टर स्मृति ईरानी ने उनकी अकादमिक काबिलियत को देखते हुए प्रशस्ति-पत्र दिया 

दिल्ली सरकार और तीन बिजली वितरण कंपनियों को नोटिस जारी

image_pdfimage_print

विशेष संवाददाता, हाई कोर्ट 04.09.2014,
दिल्ली हाई कोर्ट ने उस याचिका पर दिल्ली सरकार और तीन बिजली वितरण कंपनियों को नोटिस जारी किया है जिसमें कहा गया है कि बिजली से होने वाले हादसों से लोगों की सुरक्षा सुनिश्चित की जाए और हादसे को रोकने के लिए एक गाइडलाइंस बनाई जाए। दिल्ली हाई कोर्ट की चीफ जस्टिस जी.रोहिणी और जस्टिस राजीव सहाय एंडलॉ की बेंच ने राजधानी की तीनों बिजली कंपनियों को इस मामले में 4 हफ्ते में जवाब दाखिल करने को कहा है। 
अदालत ने बिजली कंपनियों से कहा है कि वे बताएं कि दिल्ली में मौजूदा सुरक्षा के क्या उपाय हैं। इस मामले में केंद्र सरकार को भी प्रतिवादी बनाया गया था, लेकिन केंद्र सरकार को नोटिस जारी नहीं किया गया। केंद्र सरकार की ओर से पेश अडिशनल सॉलिसिटर जनरल संजय जैन ने कहा कि इस मामले में केंद्र का मतलब नहीं है क्योंकि तमाम कानून-व्यवस्था की जिम्मेदारी राज्य सरकार की है। अदालत ने दिल्ली सरकार और दिल्ली पुलिस को भी नोटिस जारी किया है। 
इस मामले में हाई कोर्ट में एक पीआईएल दाखिल की गई है और दिल्ली सरकार और तीन बिजली वितरण कंपनियों व अन्य को प्रतिवादी बनाया गया है। याचिकाकर्ता ने कहा कि राजधानी में हाल के दिनों में बिजली के कारण कई हादसे हुए हैं। दिल्ली सरकार ने बिजली का प्राइवेटाइजेशन किया था ताकि बिजली सेक्टर की बेहतरी हो सके। लोगों को भरोसा दिलाया गया था कि प्राइवेटाइजेशन के कारण लोगों की बेहतरी होगी और इन्फ्रास्ट्रक्चर और बेहतर होगा। लेकिन ऐसा नहीं हुआ। आए दिन बिजली के झटकों से घटनाएं हो रही हैं। निर्देश देने की मांग की गई कि लाइसेंस लेने वाली कंपनी 5 करोड़ रुपये का भुगतान करें। सेफ्टी का पालन नहीं किए जाने के मामले की जांच का आदेश देने की गुहार लगाई गई है। 

एम्स ऐसे मामलों पर एक रिपोर्ट बना रहा, जिस अस्पताल से पेशंट भेजे जा रहे

AIIMS
image_pdfimage_print

नई दिल्ली 04.09.2014,

अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स) पहुंचने से पहले ही रोज लगभग एक रोगी की मौत हो जाती है। यह आकंड़ा उन केसों का है, जिनमें रोगी को दूसरे अस्पतालों से रेफर किया जाता है। इनमें से ज्यादातर को दूसरे हॉस्पिटल या डॉक्टर बिना किसी संपर्क के सीधे एम्स के लिए भेज देते हैं। आमतौर पर ऐसे रोगी बहुत ही एडवांस स्टेज में होते हैं। उनकी या तो रास्ते में मौत हो जाती है या उन्हें मरने के बाद ही रेफर किया जाता है।

पिछले दिनों एम्स में नोएडा के एक प्राइवेट हॉस्पिटल से तीन ऐसे पेशंट भेजे गए जिनकी पहले से ही मौत हो चुकी थी। इसके बाद एम्स ऐसे मामलों पर एक रिपोर्ट बना रहा है। जिस अस्पताल से पेशंट भेजे जा रहे हैं, वहां के सीएमओ और मेडिकल सुप्रीटेंडेंट के अलावा डायरेक्टर हेल्थ सर्विसेज को भी रिपोर्ट भेजी जा रही है। एम्स ट्रॉमा सेंटर में इमरजेंसी डिपार्टमेंट के हेड डॉक्टर संजीव भोई का कहना है कि हर दिन एम्स और ट्रॉमा सेंटर में ऐसे रोगी रेफर कर दिए जाते हैं, जो काफी सीरियस होते हैं। उन्होंने कहा कि रेफर करने से पहले उन्हें एम्स से संपर्क करना चाहिए। इससे पता चल सकेगा कि यहां बेड खाली है भी या नहीं। लेकिन वे ऐसा नहीं करते। यह न केवल पेशंट केयर एथिक्स के खिलाफ है बल्कि अनेसफ ट्रांसफर भी है।

एम्स के डायरेक्टर डॉ. एम सी मिश्रा का कहना है कि हम उस अस्पताल को एक साल से लेटर लिख रहे हैं। हमारा मकसद है कि उन्हें बताना है कि रोगी को सेफ्टी का ख्याल रखते हुए रेफर करना चाहिए। डॉक्टर भोई का कहना है कि ज्यादातर ऐसे रोगी प्राइवेट हॉस्पिटल से आते हैं। ऐंबुलेंस में रोगी ऑक्सीजन पर होता है लेकिन साथ कोई डॉक्टर नहीं होता है। रोगी की स्थिति परिवार वाले को पता नहीं होती, जिसकी वजह से कई बार रोगी रास्ते में मर जाता है। हांलाकि, सूत्रों का कहना है कि कई बार मरे हुए रोगी को ऑक्सीजन लगाकर रेफर कर दिया जाता है और फैमिली को लगता है कि रोगी को एम्स में वक्त पर भर्ती नहीं किया जा सका इसलिए मौत हो गई।

तेज रफ्तार से दौड़ रही एक कार ड्राइवर की लापरवाही की कीमत इस होनहार को अपनी जान देकर चुकानी पड़ी

image_pdfimage_print

नगर संवाददाता, नई दिल्ली 04.09.2014,
वह 12वीं क्लास की ऑल इंडिया टॉपर थी। नैशनल लेवल पर कई खेलों में मेडल जीत चुकी थी। पढ़ाई और खेल दोनों में वह कभी हार नहीं मानती थी। लेकिन सड़क पर तेज रफ्तार से दौड़ रही एक कार ड्राइवर की लापरवाही की कीमत इस होनहार को अपनी जान देकर चुकानी पड़ी।

हादसा अगस्त क्रांति मार्ग पर कमला नेहरू कॉलेज के पास सोमवार दोपहर डेढ़ बजे हुआ। दीप्ति शास्त्री को तेज रफ्तार से आ रही एक महिला कार ड्राइवर हिट करके फरार हो गई। एक चश्मदीद ने उन्हें एम्स ट्रॉमा सेंटर में एडमिट करवाया, जहां डॉक्टरों ने उन्हें डेड डिक्लेयर कर दिया। हौजखास पुलिस ने आरोपी महिला नलिनी अग्रवाल (50) को सोमवार शाम अरेस्ट किया। हालांकि बाद में उसे जमानत पर रिहा कर दिया।

दीप्ति के पिता उपेंद्र कुमार शास्त्री बताते हैं कि इसी साल 12वीं क्लास में मेरी बेटी ने जियोग्राफी में 99 पर्सेंट नंबर लाकर ऑल इंडिया टॉप किया था। एचआरडी मिनिस्टर स्मृति ईरानी ने 2 जून को प्रशस्ति-पत्र देकर दीप्ति को सम्मानित किया था। दीप्ति के बड़े भाई दीपेश कहते हैं कि मेरी बहन पढ़ाई में जितनी तेज थी, खेलों में भी उतनी ही माहिर थी। हाल ही में वह पंजाब में चेस प्रतियोगिता से हिस्सा लेकर लौटी थी। स्कूल गेम्स फेडरेशन ऑफ इंडिया के खेलों में उसने 30 से ज्यादा बार अपना लोहा मनवाया। शॉटपुट, कबड्डी, शतरंज, डिस्कस थ्रो जैसे खेलों में कई ट्रॉफियां और मेडल जीते थे।

हादसों से सबक क्यों नहीं
उपेंद्र कुमार शास्त्री कहते हैं कि हमारा नुकसान सरकार हादसों से सबक क्यों नहीं लेती? जिस जगह हादसा हुआ, वहां कोई स्पीड ब्रेकर नहीं है। लिमिटेड स्पीड का कोई साइनबोर्ड नहीं लगा है और ट्रैफिक पुलिस की तैनाती में भी ढिलाई है। लड़कियों के एक बड़े कॉलेज के आसपास जब यह हाल है, तो बाकि दिल्ली की कहानी समझी जा सकती है। दीप्ति के भाई दीपेश कहते हैं कि दिल्ली ट्रैफिक पुलिस को कॉलेज के आसपास और ऐसी सभी जगहों पर स्पीड ब्रेकर बनवाने चाहिए, ताकि फिर कोई दीप्ति इस तरह के हादसों का शिकार न हो।

डीडीए स्कीम के फ्लैटों को अगर आप देखने जा रहे हैं तो जरा सावधान हो जाएं।

image_pdfimage_print

नगर संवाददाता, रोहिणी 04.09.2014,
दिल्ली में हाल में लॉन्च हुई डीडीए स्कीम के फ्लैटों को अगर आप देखने जा रहे हैं तो जरा सावधान हो जाएं। वहां पर तैनात गार्ड आप पर हमला कर सकते हैं। यहां पर पल-पल खतरा आपकी ओर मंडराता रहता है। इन गार्ड्स का रवैया काफी खराब है। फ्लैट्स के पास बने डीडीए के ऑफिस में जब गार्ड्स की शिकायत करने जाएंगे तो अधिकारी कोई एक्शन भी नहीं लेंगे। वह कहेंगे कि गार्ड्स हमारे नहीं हैं और ये प्राइवेट कंपनी की ओर से तैनात किए गए हैं।

बुधवार को जब एनबीटी रिपोर्टर डीडीए के सेक्टर-34 और 35 में बने डीडीए फ्लैट्स की फोटो खींच रहे तो वहां पर तैनात गार्ड ने रिपोर्टर के साथ बदतमीजी और बदसलूकी की। दिन के करीब 12:45 बजे हम डीडीए फ्लैट्स की मोबाइल फोन से फोटो खींच रहे थे, लेकिन तभी हमारे सामने गार्ड आ गया और उसने हमें फोटो खींचने से रोका। हमने उसे बताया कि हम एनबीटी की तरफ से फ्लैट्स की फोटो खींच रहे हैं। गार्ड को हम अपनी आइडेंटिटी कार्ड दिखाने ही वाले थे, तभी उसने हमारे मोबाइल के कैमरे के सामने हाथ रख दिया। धक्का मारते हुए गार्ड ने कहा कि चाहे आप कहीं से भी हों, हमें इसकी परवाह नहीं है, पहले डीडीए ऑफिस चलो।

इसी बीच गार्ड ने गुस्सा दिखाते हुए हमारे हाथ से मोबाइल फोन छीन लिया। गार्ड ने अपने साथी गार्ड को रिपोर्टर को सबक सिखाने के लिए कहा और दोनों ने हम पर हमला कर दिया। चंद मिनटों बाद वह हमारे हाथ को जोर से पकड़ते हुए डीडीए ऑफिस पर पहुंचे। कन्हैया ठाकुर (गार्ड) ने डीडीए के अधिकारियों के सामने ही फोन वापस दिया। साथ ही वहां पर मौजूद अधिकारी ने हमसे हमारा आइडेंटिटी कार्ड भी मांगा। डीडीए अधिकारियों से जब पूछा गया कि उनके गार्ड ने ऐसी हरकत की है तब उन्होंने साफ इनकार करते हुए कहा कि यहां पर प्राइवेट कंस्ट्रक्शन कंपनी के गार्ड तैनात हैं। हमारे स्टाफ ने कोई ऐसी बदतमीजी नहीं की। साथ ही डीडीए के कुछ अधिकारियों ने हमसे कहा कि आपको फोटो खींचने से पहले हमारे ऑफिस आना चाहिए था। हम आपके साथ चलकर खुद फ्लैटों को दिखाते। मामले को बढ़ता देख रिपोर्टर ने 100 नंबर पर कॉल करके पुलिस को बुला लिया। कुछ देर बाद शाहबाद डेरी थाने के आईओ मौके पर पहुंचे और उन्होंने दोनों से उनका पक्ष जाना। दोनों को आईओ पुलिस स्टेशन ले गए और पुलिस ने कार्रवाई की। इस घटना से एक बात साफ है कि डीडीए फ्लैट्स का निरीक्षण करने जा रहे हैं तो वहां पर बैठे गार्ड से सावधान रहें। 

दो लाख रुपये की रिश्वत मांगने के आरोप में दिल्ली पुलिस की क्राइम ब्रांच ने दो पुलिसवालों को गिरफ्तार किया

image_pdfimage_print

स, नई दिल्ली 04.09.2014,
पंजाब के एक कारोबारी से दो लाख रुपये की रिश्वत मांगने के आरोप में दिल्ली पुलिस की क्राइम ब्रांच ने दो पुलिसवालों को गिरफ्तार किया है। दोनों क्राइम ब्रांच में तैनात हैं। इनमें एक महिला सब इंस्पेक्टर वंदना राव, जबकि दूसरे असिस्टेंट सब इंस्पेक्टर हंस कुमार हैं। पुलिस सूत्रों ने बताया कि दोनों आरोपियों ने 31 अगस्त को पंजाब के एक कारोबारी से रिश्वत मांगी। कारोबारी महिपालपुर के एक होटल रेनबो में ठहरे हुए थे। आरोप है कि पुलिसकर्मियों ने इन्हें धमकाकर 40 हजार रुपये वसूल लिए। कारोबारी जसप्रीत सिंह ने शक के आधार पर पुलिसकर्मियों के खिलाफ दिल्ली पुलिस से शिकायत कर दी। इनवेस्टिगेशन के बाद वंदना राव और हंस कुमार को अरेस्ट कर लिया गया है। सूत्रों ने बताया कि बाकी दो पुलिसकर्मियों से पूछताछ की जा रही है। 

बीजेपी विधायक जितेंद्र सिंह शंटी पर बुधवार सुबह हेलमेट पहने अज्ञात हमलावर ने कई राउंड फायरिंग कर दी।

image_pdfimage_print

वरिष्ठ संवाददाता, नई दिल्ली 04.09.2014,
शाहदरा से बीजेपी विधायक जितेंद्र सिंह शंटी पर बुधवार सुबह हेलमेट पहने अज्ञात हमलावर ने कई राउंड फायरिंग कर दी। शंटी इस हमले में बाल-बाल बच गए। पूरी वारदात सीसीटीवी कैमरे में दर्ज हो गई। फरार हुए हमलावर को पुलिस अरेस्ट नहीं कर पाई है। 
बीजेपी विधायक जितेंद्र सिंह शंटी अपने परिवार के साथ प्रताप खंड, झिलमिल, विवेक विहार में रहते हैं, जहां यह घटना हुई। शंटी का कहना है कि जिस तरह से हमलावर ने पूरी वारदात को अंजाम दिया, उससे ऐसा लगता है कि वह मेरा अपहरण करके ले जाना चाहता था। हमलावर यह कहकर खींचकर ले जा रहा था कि शोर नहीं मचाना। शोर मचाने पर उसने फायरिंग शुरू कर दी। शंटी का कहना है कि मेरी किसी से कोई दुश्मनी नहीं है। मैं हमेशा सबकी मदद के लिए तैयार रहता हूं। 
शंटी के पड़ोसी ने पुलिस को कॉल की। पुलिस ने मौके पर पहुंचकर सड़क पर पड़े तीन खाली खोल को कब्जे में ले लिया। सीसीटीवी फुटेज को भी कब्जे में ले लिया गया। 
‘मुझ पर 2007 में भी हमला हुआ था’ 
शंटी का कहना है कि इससे पहले 2007 में भी मेरे ऊपर जानलेवा हमला किया गया था। उस समय जब मैं थोड़ा झुककर दरवाजे से बाहर निकल रहा था, तभी बाहर खड़े हमलावर ने निशाना बनाते हुए फायर कर दिया था, लेकिन पिस्टल से निकली गोली मेरे सिर के ऊपर से होकर चली गई थी। 


Hit Counter provided by laptop reviews